Bengal election 2021 : ओवैसी की बारात छोड़कर दुल्हा हुआ फरार ! - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | पश्चिम बंगाल| नया इंडिया|

Bengal election 2021 : ओवैसी की बारात छोड़कर दुल्हा हुआ फरार !

KolKata : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 (Bengal election)  देश भर में चर्चा का विषय बना हुआ है. चुनावों की घोषणा के पहले ओवैसी (owaisi)  की पार्टी  AIMIM को भी एक मजबूत पक्ष के रूप में देखा जा रहा था. लेकिन  मौजूदा हाल में बंगाल का यह रण BJP और TMC के बीच ही दिखाई देता है. ताजा जानकारी के अनुसार असादुदीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के राज्य प्रभारी ने ही पाला बदल दिया है. AIMIM के पश्चिम बंगाल प्रभारी जमीर उल हसन ने पार्टी छोड़कर ममता दीदी का साथ देने का फैसला लिया है. इस खबर के फैलने के बाद से लोगों ने सोशल मीडिया में जमकर ओवैसी की क्लास लगाई. सोशल मीडिया (SOCIAL MEDIA) पर ए यूजर ने यहां तक लिख दिया कि बंगाल में ओवैसी की बारात का घोड़ा ही बारात छोड़कर भाग गया है. पार्टी बदलने के बाद हसन ने नंदीग्राम सीट पर सीएम ममता बनर्जी (MAMTA BANERJEE ) का समर्थन करने का फैसला लिया. TMC में शामिल होते ही उन्होंने भाजपा पर कड़ा हमला किया और TMC  के पुराने सहयोगी सुरेंद्र अधिकारी को मीर जाफर बता दिया.

इसे भी पढ़ें- रांची में पति के अवैध संबंध से परेशान होकर निशानी मिटाने के लिए बेटी को बोरी में बंद कर लगा दी आग

चुनाव की घोषणा के पहले ओवैसी की हो रही थी चर्चा

बिहार चुनाव (BIHAR ELECTION)  में अप्रत्याशित बढ़त पाने के बाद से ओवैसी के सितारे सातवें आसमान पर थे. हालांकि ओवैसी ने हमेशा ही ममता ‘दीदी’ के साथ गठबंधन करने में अपनी रुचि दिखाई थी. लेकिन ममता बनर्जी ने उन्हें घास नहीं डाली. जिसके बाद ओवैसी ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला लिया. मुस्लिम आबादी को देखते हुए यह माना जा रहा था कि ओवैसी बंगाल में कुछ अलग करके दिखा सकते हैं.  कुछ नहीं तो ममता दीदी को गहरा आघात पहुंचा सकते हैं. लेकिन ताजा स्थिति को देखें तो बंगाल और BJP और TMC की रणभेरी बनकर रह गई है.

इसे भी पढ़ें- योगी आदित्यनाथ के शानदार चार साल, जलवा अब भी बरकरार- सर्वे

TMC  के कार्यकर्ता नहीं छोड़ रहे हैं कोई कसर

बंगाल में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं ओवैसी (owaisi) कमजोर पड़ते दिखाई दे रहे हैं.TMC ने भी मुस्लिम वोटरों को यह समझाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है कि ओवैसी बंगाल के लोगों की मदद करने नहीं आने वाले. इसके साथ ही TMC कार्यकर्ताओं ने लोगों को यह समझाने का पूरा प्रयास किया है कि ओवैसी को वोट देने का मतलब होगा BJP को वोट देना और टीएमसी के खिलाफ वोटिंग करना.

इसे भी पढ़ें- घरेलू गैस-सिलेंडर पर सब्सिडी 153.86 रुपये से बढ़ कर 291.48 रुपये जानें, आपको कैसे मिलेगा लाभ

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *