सावधान! 1 अप्रैल से इन बैंकों के चेकबुक से आप नहीं निकाल सकेंगे पैसे - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | पते की बात | लाइफ स्टाइल| नया इंडिया|

सावधान! 1 अप्रैल से इन बैंकों के चेकबुक से आप नहीं निकाल सकेंगे पैसे

New Delhi: देश में 31 मार्च के बाद से बैंकिंग के क्षेत्र (Banking Sector) में बहुत कुछ बदलने वाला है. अगर आपके भी खाते इन बैंकों में हैं तो आप भी सावधानी (Caution) से ये खबर पढ लें. जानकारी के अनुसार 1 अप्रैल से कुछ बैंकों के पासबुक (Passbook) इनवैलिड (Invalid) हो जाएंगे. इसके बाद से इन पासबुकों से पैसों नहीं निकाले जा सकेंगे. जो बैंक ऐसा करने वाले हैं उनमें देना बैंक, विजया बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, आंध्रा बैंक, ओरिएंटल बैंक आॅफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक और इलाहाबाद (Dena Bank, Vijaya Bank, Corporation Bank, Andhra Bank, Oriental Bank of Commerce, United Bank and Allahabad Bank) बैंक शामिल हैं. बैंको के ऐसा करने का कारण बैंको का विलय होना है.

विलय होने के बाद बदल जाती है खाता संख्या और चेकबुक

यहां बता दें कि बैंको के विलय (Fusion) होने के कारण ग्राहकों को भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसकी पीछे का कारण ये है कि ग्राहक जो खाता संख्या पहले प्रयोग में लेते आ रहे थे उसमें भी बदलाव हो जाता है. इसके साथ ही पहले से प्रयोग में लाए जा रहे चेकबूक को भी बदलना होता है. इनके अलावा ग्राहकों के IFSC, MICR कोड, ब्रांच एड्रेस भी बदल जाते हैं. हालांकि इन सबके लिए ग्राहकों को किसा भी प्रकार का कोई चार्ज नहीं देना पड़ता है लेकिन बैंको में जाकर इस विषय में जानकारी लेनी होती है. हालांकि उपर लिखे कई बैंको ने अपना ग्राहकों को इस विषय में पहले ही जानकारी दे दी है. यहीं कारण है कि मर्ज हो चुके बैंकों के ग्राह मौजूदा चेकबुक, पासबुक का प्रयोग 31 मार्च तक ही कर सकेंगे. इसके साथ बाद 1 अप्रैल से नये चेकबुक और पासबुक मान्य होंगे.

इसे भी पढ़ें- बंगाल चुनाव : दोस्तों का बीच भी होगा मुकाबला, एक भाजपा की ओर से डालेगा यॉर्कर तो दूसरा टीएमसी के लिए जड़ेगा सिक्सर

सिंडीकेट बैंक ने दिया है 30 जून तक का समय

हालांकि कुछ बैंको ने अपने ग्राहकों के लिए 30 जून तक का समय दिया है. इसका मतलब ये है कि आने सिंडीकेट बैंक के खाता धारक 1 अप्रैल के बाद भी अपने चेकबूक का प्रयोग कर सकेंगे. लेकिन उन्हें भी 30 जून के पहले अपने नये पासबुक और चेकबुक लेने ही होंगे. हालांकि ग्राहकों को इस बार में भी ध्यान देना चाहिए कि वे अपने मोबाइल नंबर, पता, नॉमिनी(Branch Address, Mobile Number, Address, Nominee) आदि जैसी डिटेल्स भी अपडेट करा लें जिससे कि आगे चलकर उन्हें परेशानियों का सामना ना करना पड़े.

किसका किससे हुआ है विलय

2019 में कुछ बैंको का विलय हुआ था. इसी क्रम में देना और विजया बैंक का विलय बैंक ऑफ बड़ौदा में हो गया था. इनका विलय 1 अप्रैल 2019 से प्रभाव में आ गया था. साथ ही, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का विलय पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में, सिंडिकेट बैंक(Syndicate Bank) का केनरा बैंक में, आंध्रा बैंक व कॉरपोरेशन बैंक का यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में और इलाहाबाद बैंक का इंडियन बैंक में विलय हुआ था.

इसे भी पढ़ें-  फोर्ड ने 10.49 लाख का एकोस्पोर्ट एसई लॉन्च किया

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *