कोरोना से 162 डॉक्टरों की मौत हुई

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों का इलाज करने के दौरान इससे संक्रमित होकर 162 डॉक्टरों की मौत हुई है। केंद्र सरकार ने मंगलवार को संसद में बताया कि संक्रमण के चलते अब तक देश भर में 162 डॉक्टरों की मौत हुई है। इनके अलावा 107 नर्सों और 44 आशाकर्मियों की मौत हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लिखित जवाब में इसकी जानकारी दी। सरकार ने बताया कि ये सभी लोग कोरोना मरीजों के इलाज में जुटे थे।

सरकार ने राज्यसभा में यह भी बताया कि देश के अस्पतालों में वेंटिलेटर वाले बेड्स, ऑक्सीजन वाले बेड्स और आईसीयू बेड्स की संख्या बढ़ाई गई है। पिछले साल अप्रैल में ऑक्सीजन युक्त बेड्स की संख्या 62,458 थी, जिसे इस साल 28 जनवरी तक बढ़ा कर एक लाख 57 हजार 344 कर दिया गया था। वहीं, आईसीयू बेड्स का संख्या भी 27,360 से बढ़ा कर 36,008 कर दी गई है। भारत में पिछले एक साल में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या एक करोड़ सात लाख 75 हजार के करीब हो गई है।

इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में 56 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी मिली है। हालांकि उन्होंने साथ ही कहा कि सभी लोगों को कोविड-19 नियमों का पालन करना होगा। मास्क और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना होगा और सोशल डिस्टेंसिंग भी बनाए रखनी होगी। दिल्ली में कोरोना वायरस के कम होते मामलों के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में जल्दी ही स्कूल पूरी क्षमता के साथ खुल सकेंगे। गौरतलब है कि कोरोना की वजह से पिछले साल मार्च से स्कूल बंद है।

हालांकि अभी स्कूल खोलने के खतरे भी दिखाई देने लगे हैं। पंजाब के नवांशहर में एक सरकारी स्कूल में 14 बच्चे और तीन शिक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद आनन-फानन में स्कूल को बंद कर दिया गया है। पॉजिटिव मिले छात्रों और शिक्षकों को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घरों में ही आइसोलेट कर उनका इलाज शुरू कर दिया है। सोमवार को गांव के सरकारी हाईस्कूल के एक शिक्षक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद स्कूल के बच्चों और शिक्षकों के सैंपल लिए गए थे। मंगलवार को इसमें से कई लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। इसके बाद मंगलवार को स्कूल आए सभी 110 बच्चों के सैंपल लिए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares