कोरोना का असर दिमाग पर भी

न्यूयार्क। अब तक माना जा रहा था कि कोरोना वायरस यानी कोविड-19 की चपेट में आने वाले लोगों को खांसी, जुकाम, सीने में जकड़न, सांस लेने में कठिनाई और निमोनिया ही होता है। पर अब पता चल रहा है कि संक्रमित लोगों को मस्तिष्क संबंधी गंभीर दिक्कतों का भी सामना करना पड़ रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक, कोरोना के कारण लोगों के दिमाग पर असर पड़ रहा है। इसमें लोगों की दिमागी क्षमता प्रभावित होने के साथ ही सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता घट जा रही है।

अमेरिका के कई शहरों में ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें कोरोना वायरस से संक्रमित लोग की दिमागी क्षमता प्रभावित हुई है। फ्लोरिडा के बोका रैटन अस्पताल में आए 74 साल के एक मरीज का जिक्र करते हुए डॉक्टरों ने बताया कि मार्च की शुरुआत में जब मरीज को लाया गया तो इसे खांसी और बुखार की ही शिकायत थी। उसका एक्सरे कराया गया। हालात सामान्य समझकर उसे घर जाने दिया गया। घर में बुखार बढ़ने पर अगले दिन उसे फिर अस्पताल लाया गया। उसकी हालत बिगड़ चुकी थी। सांस लेने की दिक्कत के साथ वह मानसिक चेतना खो चुका था। वह डॉक्टरों को अपना नाम तक नहीं बता पा रहा था। उसके हाथ-पांव कांप रहे थे। जांच में पता चला कि वह कोविड-19 की चपेट में है।

ऐसे ही डॉक्टरों ने डेट्रॉयट की एक महिला मरीज के बारे में चौंकाने वाली जानकारी दी। एक एयरलाइन में काम करने वाली पचास साल की महिला पिछले कुछ दिनों से कोरोना की चपेट में है। इसके सिर में दर्द रहने से यह भ्रम की शिकार हो गई है। वह डॉक्टरों को अपना नाम भी नहीं बता पा रही है। उसे समय का भी कोई अंदाजा नहीं रह गया है। उसके मस्तिष्क की स्कैनिंग करने पर कई हिस्सों में सूजन मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares