राजस्थान का PALI जहां से 6 लोग देश की संसद में बैठते हैं | pali district MP Sansad
आज खास | ताजा पोस्ट | राजनीति | देश | राजस्थान| नया इंडिया| राजस्थान का PALI जहां से 6 लोग देश की संसद में बैठते हैं | pali district MP Sansad

राजस्थान का PALI जिला जहां से छह लोग देश की संसद में बैठते हैं

pali district MP Sansad

जयपुर | राजस्थान में एक जिला ऐसा है जहां के छह सांसद ( pali district MP Sansad ) देश की संसद में बैठते हैं। यह जिला अब तक राज्य में सर्वाधिक जिलों से सीमाएं लगने के चलते प्रतियो​गी परीक्षाओं के सवालों में था। कपड़े की रंगाई छपाई मिलों, बिना मुद्दे और निष्कर्ष की पंचायती और गुलाब हलवा के लिए प्रसिद्ध इस जिले का नाम पाली है। देश की संसद के दोनों सदनों में बैठने वाले कुल सदस्यों में से छह का सीधा जुड़ाव पाली से हैं। इनमें से तीन राज्यसभा के सदस्य हैं और तीन ही लोकसभा के हैं। यह शायद देश का एकमात्र जिला है, जहां का प्रतिनिधित्व इतना अधिक संसद में है।

pali district MP Sansad

आठ विधानसभाओं पर एक लोकसभा सांसद और बीस विधानसभाओं पर एक राज्यसभा सांसद का औसत फिलहाल है। परन्तु पाली जिले के लिए यह बात लागू नहीं होती। इस​ जिले की तो ​छोड़िए राजस्थान के किसी भी जिले का प्रतिनिधित्व इतना अधिक लोकसभा में नहीं रहा। पाली राजस्थान का वह जिला है, जहां सर्वाधिक आठ जिलों की सीमाएं छूती है।

Joe Biden ने लॉस एंजिल्स के मेयर Eric Garcetti को बनाया भारत में अमेरिका का नया राजदूत

ये जिले हैं बाड़मेर, जालोर, जोधपुर, नागौर, अजमेर, भीलवाड़ा, राजसमंद और उदयपुर। अब यह सर्वाधिक सांसदों वाला जिला भी है। खास बात तो यह है कि दो लोकसभा क्षेत्रों वाले इस जिले में दोनों ही लोकसभा सांसद बीजेपी से हैं और इस जिले के मूल निवासी नहीं है। जबकि इस जिले के चार मूल निवासी नागरिक सांसद हैं, जिनमें से तीन राज्यसभा और एक लोकसभा में हैं।

मेरे भारत की बेटी..भारतीय मूल की सिरिषा बांडला आज भरेगी ब्रिटेन के अरबपति रिचर्ड ब्रैनसन के साथ अंतरिक्ष की उड़ान

यह हैं सांसद
अश्विनी वैष्णव, रेल एवं आईटी मंत्री
कभी आईएएस रहे वैष्णव मूल रूप से पाली जिले के जीवंद कलां निवासी हैं। प्रारंभिक शिक्षा जोधपुर में हुई है और वे ओडिशा काडर के आईएएस रहे हैं। फिलहाल वे ओडिशा से राज्यसभा के सदस्य हैं।

railway minister pali district MP Sansad vaishnav

ओमप्रकाश माथुर
राज्यसभा में दूसरी बार प्रतिनिधित्व कर रहे ओम प्रकाश माथुर आरएसएस के प्रचारक रहे। राजस्थान प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष रहे और पीएम मोदी के चुनाव मैनेजमेंट टीम का हिस्सा भी रहे हैं। माथुर पाली जिले के बेड़ल गांव के रहने वाले हैं।

pali district MP Sansad om mathur

पीपी चौधरी
यह पाली संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं और मूलत: जोधपुर जिले के भावी गांव के रहने वाले हैं। पाली की पांच और जोधपुर जिले की तीन विधानसभा क्षेत्रों को मिलाकर बने पाली संसदीय क्षेत्र से संसद के निचले सदन के प्रतिनिधि हैं। ये मोदी सरकार 1.0 में विधि एवं आईटी राज्यमंत्री रह चुके हैं।

PP choudhary pali district MP Sansad

सुनील सोनी
पाली के मूल निवासी सोनी फिलहाल छत्तीसगढ़ से बीजेपी के सांसद हैं। ये रायपुर के मेयर भी रह चुके हैं। ये पाली के सोजत उपखण्ड के बगड़ी गांव के निवासी हैं। इनके पिता ज्वैलरी के व्यवसाय में छत्तीसगढ़ शिफ्ट हो गए थे। सोनी की खुद की शिक्षा दीक्षा रायपुर से ही है।

suresh soni chhatisgarh pali district MP Sansad

दीया कुमारी
2009 में हुए परिसीमन के बाद जिले की एक विधानसभा राजसमंद संसदीय क्षेत्र में चली गई। इसका नाम जैतारण हैं। राजसमंद सांसद दीया कुमारी इस लिहाज से पाली संसदीय क्षेत्र की तो नहीं, लेकिन पाली जिले की MP हैं। उनसे पूर्ववर्ती हरिओम सिंह राठौड़ जिले के सांसद के नाते पाली में आयोजित होने वाली बैठकों में शामिल होते रहे है।

diya kumari rajsamand pali district MP Sansad

नीरज डांगी
कांग्रेस में राजस्थान से सांसद नीरज डांगी पाली जिले के देसूरी के निवासी हैं। इनके पिता दिनेश डांगी प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके हैं. नीरज स्वयं यूथ कांग्रेस से शुरूआत करके लम्बे समय तक पार्टी के निष्ठावान पदाधिकारी रहे हैं।

niraj dangi pali district MP Sansad

pali district MP Sansad : राजस्थान सरकार में भी प्रभावी है जिला
प्रदेश के मुख्य सचिव भी पाली जिले के रहने वाले हैं। यही नहीं उनकी पत्नी श्रीमती संगीता आर्य राजस्थान कर्मचारी चयन आयोग की सदस्य के संवैधानिक पद पर भी हैं। ऐसे में PALI का प्रतिनिधित्व राजनीतिक रूप से खासा प्रभावी है।

UP: ‘बच्चे दो ही अच्छे’! 2 से ज्यादा बच्चे तो रहना पड़ सकता है सरकारी नौकरी से वंचित

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
अब माचिस ने भी लगाई आग, कच्चे माल की कीमतों में इजाफा होने के बाद 1 दिसंबर से बढ़ेगी कीमत, 14 साल बाद संशोधित दर
अब माचिस ने भी लगाई आग, कच्चे माल की कीमतों में इजाफा होने के बाद 1 दिसंबर से बढ़ेगी कीमत, 14 साल बाद संशोधित दर