nayaindia 13th Season of KBC : अलग होगा कौन बनेगा करोड़पति का 13वां सीजन...
आज खास| नया इंडिया| 13th Season of KBC : अलग होगा कौन बनेगा करोड़पति का 13वां सीजन...

अलग होगा कौन बनेगा करोड़पति (KBC) का 13वां सीजन , देखने को मिलेंगे ये बड़े बदलाव …

मुंबई | 13th Season of KBC : कौन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलीविजन में देखा जाने वाला सबसे प्रचलित शो में से एक है. इस शो को होस्ट करने वाले अमिताभ बच्चन एक बार फिर से 23 अगस्त को नए अंदाज में लोगों के सामने लेकर आ रहे हैं. बता दें कि KBC का 13 वां सीजन होने वाला है. इस शो को बॉलीवुड के किंग कहे जाने वाले शाहरुख खान ने भी होस्ट किया है. लेकिन अमिताभ बच्चन जैसी सुर्खियां शाहरुख खान नहीं बटोर पाए. यही कारण है कि केबीसी की टीम लगातार अमिताभ बच्चन के साथ ही केबीसी लेकर आ रही है. बता दें कि कौन बनेगा करोड़पति का तेरवां सीजन हटकर होने वाला है. इस बार केबीसी में कई बदलाव देखने को मिलेंगे.

ऑडियंस पोल की होगी वापसी

13th Season of KBC : केबीसी के इस सीजन में एक बार फिर से लोगों को ऑडियंस पोल देखने को मिलेगा. बता दें कि कोरोना महामारी के कारण पिछले साल दर्शकों के बिना शूटिंग की गई थी जिसके कारण इस ऑप्शन को खेल का हिस्सा नहीं रखा गया था. लेकिन इस बार एक बार फिर से शूटिंग के दौरान दर्शक मौजूद रहेंगे जिस कारण ऑडियंस पोल की लाइफलाइन खिलाड़ी को मिल सकेगी. मेकर्स की ओर से केबीसी का प्रोमो रिलीज किया गया है जिसमें देखा जा सकता है कि स्टूडियो ऑडियंस के लिए भी इंट्री दी गई है.

इसे भी पढ़ें – खुले बाल, मायूस चेहरे को लेकर शूटिंग पर पहुंची शिल्पा शेट्टी – VIDEO वायरल

 

फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट में बदलाव

हॉटसीट तक पहुंचने के पहले कंटेस्टेंट को फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट राउंड से गुजरना पड़ता है. इसमें 10 खिलाड़ी भाग लेते हैं और सबसे कम समय में सही जवाब देने वाले को विजेता घोषित किया जाता है. अब इस पर भी बता बदलाव करते हुए ना सिर्फ इसका नाम बदल दिया गया है बल्कि सवालों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. बताया गया है कि अब इस राउंड में 3 सवाल पूछे जाएंगे.

इसे भी पढ़ें- Online Class के लिए घर पर नहीं आता था Network, पहाड़ पर चढ़कर क्लास के दौरान फिसला पांव और हो गई मौत …

Leave a comment

Your email address will not be published.

13 − eleven =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
उद्धव को ढाई साल ही रहना था
उद्धव को ढाई साल ही रहना था