nayaindia भरतपुर राज परिवार | पिता विश्वेन्द्र सिंह और पुत्र अनिरुद्ध में सियासती जंग निजी लड़ाई के रूप में बदली - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

भरतपुर राज परिवार | पिता विश्वेन्द्र सिंह और पुत्र अनिरुद्ध में सियासती जंग निजी लड़ाई के रूप में बदली

bharatpur royal family vivad जयपुर | सचिन पायलट (Sachin Pilot) के समर्थन में बागी होकर मंत्री पद गंवा चुके भरतपुर के महाराज पूर्व नरेश विश्वेन्द्रसिंह और उनके पुत्र अनिरु​द्ध सिंह (Vishvendra singh Bharatpur and his son Aniruddh Singh Bharatpur) में बहुत कुछ ठीक नहीं चल रहा है। अब तक मौजूदा राजनीति में पार्टियों से कई बार बागी हुए विश्वेन्द्रसिंह के बेटे अनिरुद्ध खुद अपने पिता से बगावत कर बैठे हैं। उन्होंने एक ट्वीट करके राजस्थान की राजनीति में भूचाल ला दिया और कहा कि उनके पिता छह सप्ताह से नहीं मिले हैं। वे उनकी माता के प्रति हिंसक हो जाते हैं। इस तरह के कई आरोप अनिरुद्ध ने विश्वेन्द्रसिंह पर लगाए हैं। हालांकि इस विषय पर फिलहाल विश्वेन्द्रसिंह की ओर से प्रतिक्रिया नहीं आई है। परन्तु अनिरुद्ध सिंह का यह ट्वीट खासा वायरल हो रहा है।

https://twitter.com/thebharatpur/status/1399245245376647170?s=20

आपको याद दिला दें कि पिछले साल हुई कांग्रेस की राजनीतिक बगावत में सचिन पायलट के साथ जाने वाले विश्वेन्द्रसिंह भरतपुर की कुछ समय पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात हुई है। यह मुलाकात ऐसे दौर में हुई है, जब पार्टी फिर एक बार संकट की ओर जाने में है। बाड़मेर के गुड़ामालानी से विधायक हेमाराम चौधरी का इस्तीफा गहलोत सरकार की मुश्किलात बढ़ा चुका है। इसके बाद वेद प्रकाश सोलंकी समेत अन्य विधायकों ने भी बगावती सुर बुलंद किए हैं। नौतपा की गर्मी के बीच सीएम अशोक गहलोत और भरतपुर महाराज विश्वेन्द्रसिंह की मुलाकात ने कांग्रेस पर मानसून पूर्व ही राहत के ठंडे छींटे बरसाए। परन्तु विश्वेन्द्रसिंह के पुत्र अनिरुद्धसिंह ने खुले तौर पर सचिन पायलट का साथ देने की बात कहते हुए ट्वीट के माध्यम से अपना पक्ष रखा। 31 मई सुबह साढ़े 11 बजे उन्होंने एक ट्वीट करते हुए अपने पिता पर ही आरोप लगा दिए। यह आरोप खासे गंभीर और चौंकाने वाले हैं।

हालांकि इससे पहले भी संबंधों के बीच कड़वाहट के आरोप लगे थे, तब अनिरुद्ध ने एक ट्वीट करते हुए इन बातों को अफवाह और साजिश बताते हुए कार्रवाई की बात कही थी। विश्वेन्द्रसिंह भरतपुर से 1989 में जनता दल, 1999 व 2004 में बीजेपी से सांसद रह चुके हैं। 2013 और 2018 में वे लगातार विधायक बने हैं।

आरएसएस के सम्पर्क में अनिरुद्ध!
कुछ सूत्र यह भी बता रहे हैं कि अनिरुद्धसिंह आरएसएस के सम्पर्क में है और बीजेपी का दामन थाम सकते हैं, यदि उनके ट्वीटर अकाउंट की बात करें तो यह साफ है कि वे अधिकतर बीजेपी और आरएसएस के नेताओं को फॉलो करते हैं। पीएम मोदी का एक वीडियो उन्होंने पिन ट्वीट कर रखा है। यही नहीं वे अब अपने पिता को भी फॉलो नहीं कर रहे। कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि विश्वेन्द्रसिंह का ट्वीटर अकाउंट डि​लीट करवा दिया गया है। इसमें अनिरुद्ध पर ही आरोप लगाते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली जा रही है।

bharatpur royal family vivad भरतपुर इन दिनों चर्चाओं में
भरतपुर में सांसद रंजीता कोली पर हमले के दिन से भरतपुर चर्चा में है। वहीं चिकित्सक दंपत्ती की सड़क पर सरेआम गोली मारकर हत्या कर दिए जाने का विवाद अभी निपटा ही नहीं भरतपुर का यह विवाद अब सबसे बड़ी चर्चा का विषय बन गया है।

अनिरुद्ध ने 4 घंटे बाद डिलीट किया ट्वीट
अपने पिता के खिलाफ बगावत का ऐलान करने वाले अनिरुद्ध सिंह की सोशल मीडिया पर पारिवारिक मामले को सार्वजनिक रूप से उछालने पर कई यूजर्स आलोचना करने लगे। दोपहर 3 बजे अनिरुद्ध ने ट्वीट डिलीट ही कर दिया। यही नहीं उन्होंने एक महीने पहले कलह के खंडन वाला ट्वीट भी डिलीट कर दिया। अनिरुद्ध ने ट्वीट भले डिलीट कर दिया हो, लेकिन पूर्व राजपरिवार की कलह सार्वजनिक हो गई।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 18 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
‘सर्कस’ में बदली नए ज़माने की ‘अंगूर’
‘सर्कस’ में बदली नए ज़माने की ‘अंगूर’