World Water Day 2021: जानें, खड़े होकर पानी पीने के क्या हैं नुकसान, किडनी तक हो सकती है खराब - Naya India
आज खास | लाइफ स्टाइल | जीवन मंत्र | ताजा पोस्ट | पते की बात | फोटो गैलरी| नया इंडिया|

World Water Day 2021: जानें, खड़े होकर पानी पीने के क्या हैं नुकसान, किडनी तक हो सकती है खराब

New Delhi: पानी की उपयोगिता हमारे लिए क्या है ये तो सबको पता है. पानी के महत्व को समझने और इसके दुरूपयोग को रोकने के लिए विश्वभर में आज मतलब 22 मार्च को विश्व जल दिवस ( world water day) मनाया जाता है. इसकी शुरूआत 1992 में की गयी थी. जल के महत्व के बारे में तो हम स्कूलों में पढ़ने के दौरान ही सीखते आ रहे हैं. आज हम बात करेंगे पानी पीने के सही तरीके पर. इतना तो सबको पता है हमारे शरीर के लिए पानी कितना महत्वपूर्ण है.लेकिन देखा गया है कि जानकारी के अभाव में हम कई बार गलत तरीके से पानी पीते हैं जिसका हमारे शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. हमने अक्सर डॉक्टरों को ये बोलते सुना होगा कि हमें कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए. इसके साथ ही सुबह के समय खाली पेट में पानी पीने को भी काफी महत्व दिया जाता है. कई बार समय के अभाव में या आदतन भी हम खड़े होकर पानी पी लेते हैं. अक्सर ऐसा बोतलों से पानी पीने के दौरान होता है, जब हम खड़े-खड़े ही पानी के बोतल की ढक्कन खोलकर मुंह में बोतल को लगा लेते हैं. आइए समझें कि क्यों खड़े होकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए.. ऐसा करने से क्या फर्क पड़ता है….

ऑक्सीन सप्लाई में आती है परेशानी

खड़े होकर पानी पीने का एक नुकसान ये भी है कि इससे आपको मिलने वाला पोषण नहीं मिलता है. ऐसा करने से फूड और विंड पाइप में होने वाली ऑक्सीजन की सप्लाई रुक जाती है. इससे ना सिर्फ हमापे फेफड़े प्रभावित होते हैं बल्कि इसका सीधा असर हमारे दिल को भी होता है. साथ ही, खड़े होकर पानी पीने से पेट के निचले हिस्से की दीवारों पर दबाव बनता है. इसके कारण पेट के आसपास के अंगों को नुकसान होता है. मर्दों के लिए तो ये आदत और भी खतरनाक है क्योंकि इससे हर्निया का खतरा भी बढ़ जाता है.

खड़े होकर पानी पीने से बढ़ता है तनाव

ज्यादातर हम जल्दबाजी में खड़े होकर पानी पीते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि खड़े होकर पाने से आप में तनाव के बढने के भी काफी आसार होते हैं.. इस संबंध में किये गये शोधों की मानें तो खड़े होकर पानी पीने से तनाव का होना एक सामान्य बात है. साथ ही, इसका सीधा असर तंत्रिका तंत्र पर भी पड़ता है. जिससे शरीर को तनाव का सामना करना पड़ता है.

इसे भी पढें- हैवान पति : पत्नी के अवैध संबंध होने के शक में तांबे के तार से सिल दिया प्राइवेट पार्ट

जोड़ों में दर्द की शिकायत

आपने कई बार बड़े- बुजुर्गों को ये कहते सुना होगा कि खड़े होकर पानी पीने से आपके घुटनों में दर्द शुरु हो सकता है. बता दें कि बड़ों की ये बात बिल्कुल सही है. खड़े होकर पानी पीने से आपके शरीर के जोड़ों पर भी असर होता है. इस आदत के चलते घुटनों पर दबाव पड़ने लगता है. जिससे आर्थराइटिस की समस्या भी हो सकती है.

इसे भी पढें- मौत की लुकाछिपी : बीकानेर में ड्रम में छिपे पांच भाई—बहिनों की मौत, खबर सिर्फ सूचना नहीं है, यह सावधानी रखने को आगाह करती है

हड्डियों पर पड़ता है असर

खड़े होकर पानी पीने से शरीर की हड्डियां भी प्रभावित होती हैं. इस आदत के कारण शरीर में तेज पानी बहाव होता है. अक्सर इस तेज बहाव के कारण पानी शरीर से होकर जोड़ों में जमा हो जाता है. जिससे जोड़ों के साथ ही शरीर की हड्डियां भी प्रभावित होती हैं. कमजोर हड्डियों के कारण लोगों में गठिया जैसी भी होती है.

इसे भी पढें- दिमागी जैकब रोग खतरनाक

किडनी पर असर

खड़े होकर पानी पीने का सबसे बड़ा नुकसान शरीर की किडनी को होता है. इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण खड़े होकर पानी पीने से पानी बिना फिल्टर हुए निचले पेट की तरफ तेजी से बढ़ता है. इससे पानी में जमी अशुद्धियों पित्ताशय में जमा हो जाती हैं. ऐसे होने से किडनी पर काफी प्रभाव पड़ता है. माना जाता है कि ऐसा लगातार होने से किडनी हमेशा के लिए भी फेल हो सकती है.

इसे भी पढें- लोकतंत्र की रेटिंग का यदि बना देशी संस्करण…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Haryana : 10 साल की बच्ची का गैंगरेप, आरोपियों में से 3 तो रिश्तेदार…
Haryana : 10 साल की बच्ची का गैंगरेप, आरोपियों में से 3 तो रिश्तेदार…