Loading... Please wait...

रेलवे का जांच से इनकार

नई दिल्ली/अमृतसर। भारतीय रेलवे में अमृतसर में रेल लाइन पर 61 लोगों के कट कर मर जाने की घटना की जांच कराने से इनकार कर दिया है। रेलवे ने इसे रेल हादसा मानने से भी इनकार कर दिया है। रेलवे ने कहा है कि इस घटना में उसकी कोई गलती नहीं है। यह संभवतः पहली बार हो रहा है इतने बड़े हादसे की जांच से रेलवे ने इनकार किया है। इससे पहले हर रेल हादसे की जांच होती रही है। पर अमृतसर में हुए हादसे की पूरी जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन और रामलीला के आयोजकों पर डालते हुए रेलवे ने जांच से इनकार किया है और ड्राइवर को भी क्लीन चिट दे दी है।

रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा और रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी दोनों ने जांच से इनकार किया है। दोनों ने कहा है कि इसमें रेलवे की कोई गलती नहीं है। हालांकि पहले भी जब जांच होती तो रेलवे की गलती आमतौर पर नहीं निकलती थी पर इस बार बिना जांच के ही रेलवे ने अपनी गलती मानने से इनकार कर दिया है। गौरतलब है कि शुक्रवार को अमृतसर में रेल की पटरी पर खड़े होकर रावण दहन का कार्यक्रम देख रहे लोगों पर से तेज रफ्तार ट्रेन गुजर गई, जिसमें 61 लोग मारे गए और बड़ी संख्या में लोग घायल भी हुए।

हादसे एक दिन बाद शनिवार को रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने इस घटना की जांच को लेकर कहा कि कानून व्यवस्था का काम देखना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होती है और इस बारे में वह क्या कदम उठाती है यह फैसला भी राज्य सरकार को ही लेना है। इस बीच अमृतसर के रेल अधिकारियों ने ड्राइवर को यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी है कि घटना के लिए ड्राइवर को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता क्योंकि यह गाड़ी अमृतसर से दिल्ली की लाइन पर थी और करीब 110 किलोमीटर की रफ्तार से चल रही थी।

रेलवे के अधिकारियों ने कहा कि ड्राइवर ने स्थिति को संभालने का पूरा प्रयास किया। उसने भीड़ को रेल लाइन पर देखा तो गाड़ी की स्पीड 68 किलोमीटर प्रति घंटा तक ला दी थी। हालांकि वह स्थिति को ज्यादा संभाल नहीं पाया। शुक्रवार को आधी रात के बाद घटनास्थल पर पहुंचे बोर्ड के चेयरमैन लोहानी ने भी ड्राइवर को क्लीन चिट दी और कहा कि अगर वह इमरजेंसी ब्रेक लगाता तो ज्यादा बड़ी दुर्घटना हो सकती थी।

लोहानी ने घटनास्थल का दौरा करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि इस दुर्घटना के लिए रेलवे कतई जिम्मेदार नहीं है क्योंकि स्थानीय प्रशासन ने रेलवे को इस बारे में कोई सूचना नहीं दी थी। इस घटना के पीछे लोगों की लापरवाही की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि रेलवे के ट्रैक पर किसी भी व्यक्ति के आने की उम्मीद नहीं की जाती है। उन्होंने कहा कि दुर्घटना बीच ट्रैक पर हुई है और बीच ट्रैक पर रेलवे के किसी कर्मचारी की तैनाती नहीं की जा जाती है।

134 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech