Loading... Please wait...

राहुल को नहीं बनना पीएम

रायपुर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री पद की दावेदारी से पीछे हटने का लगभग साफ संकेत देते हुए कहा कि उनका मुख्य लक्ष्य मोदी एवं भाजपा को सत्ता में आने से रोकने का है।

गांधी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस बारे में नम्बर आने पर चुनाव के बाद बात हो जायेंगी। इसका खास मायने नही है और न ही इसको लेकर कोई समस्या है। उन्होंने यह भी विश्वास जताया कि भाजपा को अगर 200 से कम सीटे हासिल हुई तो मोदी को उऩके सहयोगी दल ही प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार नही करेंगे। उन्होने कहा कि भाजपा के विजय रथ को वह गठबन्धनों के बूते पर रोकने में सफल रहेंगे।

उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश एवं बिहार में बनने वाले गठबंधनों से मोदी को करारा झटका मिलने वाला है। उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश में बसपा सपा के गठबंधन में कांग्रेस भी शामिल होगी,इसके लिए बातचीत चल रही है। अगर तीनो दल मिलकर चुनाव लड़े तो मोदी को पांच सीटे भी उत्तरप्रदेश में नही मिल पाएंगी।

पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य की 80 सीटों में से भाजपा एवं उसके सहयोगी दल ने 73 सीटे जीती थी। कांग्रेस को केवल दो सीटे रायबरेली एवं अमेठी मिली थी। रायबरेली से श्रीमती सोनिया गांधी तो काफी अच्छे अन्तर से विजयी हुई थी लेकिन राहुल को काफी जबर्दस्त चुनौती का अमेठी में सामना करना पड़ा था। उत्तरप्रदेश में गठबंधन में कांग्रेस को कितनी सीटे मिलेगी इस बारे में उन्होने कुछ नही कहा।

गांधी ने बिहार का जिक्र किया और कहा कि वहां भी राजद,कांग्रेस एवं अन्य दलों के गठबंधन द्वारा मोदी को करारी चुनौती मिलने वाली है। उन्होंने कहा कि इन्ही दो राज्यों में मिलने वाली शिकस्त से मोदी का रास्ता रूक जाएगा।

श्री गांधी ने कहा कि उत्तरप्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, झारखण्ड,उत्तराखंड, बिहार सहित कई राज्यों में भाजपा ने पिछले चुनाव में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था और यहां की अधिकांश लोकसभा सीटे जीत ली थी।वह भाजपा का चरम था। अब हालात बिल्कुल भिन्न है। हर वर्ग मे आक्रोश है। उऩके लोग भी मानते हैं कि इन राज्यों में पुराना प्रदर्शन दोहराना संभव नही है। तो आखिर उनकी सीटे कहां बढ़ेगी।

छत्तीसगढ़,मध्यप्रदेश एवं राजस्थान में सत्ता में आने के प्रति आश्वस्त होने का दावा करते हुए उन्होने कहा कि तीनों राज्यों में मुख्य लक्ष्य भाजपा को सत्ता से बाहर करने का है,और यहीं लक्ष्य मोदी को सत्ता में आने से रोकने का है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फैसला चुनावों के बाद होगा। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के कांग्रएस एवं गांधी परिवार के 70 साल के हिसाब मांगने सम्बन्धी बयान की चर्चा किए जाने पर उन्होने कहा कि शाह को सब जानते है। उनके पुराने इतिहास को भी लोग जानते है। उनके कथन का उत्तर वह क्या देंगे।

261 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech