मुठभेड़ में मेजर, तीन जवान शहीद!

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पिछले हफ्ते गुरुवार को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के एक मास्टरमाइंड को सेना ने एक मुठभेड़ में मार गिराया। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में सोमवार को तड़के हुई इस मुठभेड़ में सेना के एक मेजर सहित तीन जवान भी शहीद हो गए। साथ ही इस मुठभेड़ में एक नागरिक की भी मौत हो गई। इस मुठभेड में शामिल कश्मीर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक अमित कुमार और तीन और जवान भी घायल हो गए।

इस मुठभेड़ को देखते हुए पुलवामा में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। सेना के अधिकारियों ने बताया कि पुलवामा के मुख्य शहर से तीन किलोमीटर दूर पिंगलान गांव में आतंकवादियों के छिपे होने की एक गुप्त सूचना मिलने के बाद 55 राष्ट्रीय राइफल्स, जम्मू कश्मीर पुलिस के विशेष दस्ते और सीआरपीएफ ने मिल कर तड़के एक खोजी अभियान चलाया।

सुरक्षा बल जब आतंकवादियों के छिपे होने की जगह पर जा रहे थे तो वहां छिपे आतंकवादियों ने उन पर गोलियां चला दीं, जिसमें सेना के मेजर और तीन जवान बुरी तरह घायल हो गए। इन सभी को 92 बेस अस्पताल में भरती कराया गया, जहां इन सभी ने दम तोड़ दिया। शहीद हुए सैन्यकर्मियों में मेजर डीएस ढौंढियाल, सैनिक सेवा राम, अजय कुमार और हरि सिंह शामिल हैं। इस अभियान में जैश ए मोहम्मद के एक शीर्ष कमांडर सहित तीन आतंकवादी मारे गए।

इनका नाम पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में बताया जा रहा था। इनमें से एक आतंकवादी की पहचान कामरान गाजी के तौर पर हुई है, जिसे पाकिस्तान का रहने वाला बताया जा रहा है। वह कश्मीर घाटी में आतंकवादियों की भरती, उन्हें प्रेरित करने और उनके प्रशिक्षण का काम देखता था। दूसरा आतंकवादी कश्मीर का स्थानीय निवासी है जो बम बनाने में माहिर था।

आतंकवादियों की तलाश में सुरक्षा बल पूरे क्षेत्र की तलाशी ले रहे हैं। इसी दौरान मौके पर मौजूद पुलिस महानिरीक्षक अमित कुमार के पैर में गोली लगने से वे घायल हो गए। इस गोलीबारी में एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी और दो अन्य जवान भी घायल हो गए हैं। सूत्रों ने बताया कि मुठभेड़ की जगह पर मौजूद एक युवक मुश्ताक अहमद को भी गोली लग गई थी और बाद में उसकी मौत हो गई थी।

113 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।