Loading... Please wait...

मोदी सरकार बदलने की हुंकार!

कोलकाता। देश की बीस बड़ी विपक्षी पार्टियों ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को बदल देने की हुंकार भरी है। कोलकाता के परेड ग्राउंड मैदान में लाखों लोगों की भीड़ के बीच विपक्षी नेताओं ने एकजुटता दिखाई और दिल्ली में सरकार बदलने का आह्वान किया। विपक्षी नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर देश के साथ धोखा करने और लोगों से किए वादे नहीं पूरे करने का आरोप लगाया। लोकतंत्र पर खतरे का अंदेशा जताते हुए विपक्षी नेताओं ने कहा कि अगर समूचा विपक्ष एकजुट होकर नहीं लड़ेगा तो ऐसे ही लोकतंत्र पर हमले होते रहेंगे।

रैली का आयोजन करने वाली तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने आक्रामक तेवर दिखाते हुए कहा कि केंद्र सरकार की एक्सपायरी डेट खत्म हो गई है और अब इसे बदल देना चाहिए। उन्होंने विपक्ष के लिए नारा दिया – बदल दो, बदल दो, दिल्ली की सरकार बदल दो। ममता बनर्जी ने भाजपा पर न्यूनतम राजनीतिक शिष्टता का भी पालन नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो भी नेता भाजपा में नहीं जाता है उसको चोर बता दिया जाता है।

ममता बनर्जी ने विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद के दावेदार के मसले कहा कि विपक्षी दल एक साथ मिल कर काम करने का वादा करते हैं और प्रधानमंत्री कौन होगा इस पर फैसला लोकसभा चुनाव के बाद होगा। यहीं बात समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी कही। उन्होंने कहा - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी हर सभा में कहते हैं कि विपक्ष का नेता कौन होगा तो इस पर हमारा जवाब है कि विपक्ष का नेता जनता चुनेगी।

यूनाइटेड इंडिया नाम से आयोजित इस रैली में लगभग सभी विपक्षी पार्टियों ने हिस्सा लिया। इसके अलावा हाल तक भाजपा के साथ जुड़े रहे नेताओं और पार्टियों के प्रतिनिधि भी रैली में शामिल हुए। पटना साहिब से भाजपा के सांसद शत्रुघ्न सिन्हा भी इस रैली में शामिल हुए और अपनी पार्टी की सरकार पर जम कर हमला बोला। भाजपा छोड़ने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी भी इस रैली में शामिल हुए।

पूर्व प्रधानमंत्री व जनता दल एस के प्रमुख एचडी देवगौड़ा और चार मौजूदा मुख्यमंत्रियों – ममता बनर्जी, चंद्रबाबू नायडू, एचडी कुमारस्वामी और अरविंद केजरीवाल ने रैली में शिरकत की। छह पूर्व मुख्यमंत्री - अखिलेश यादव, फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, बाबूलाल मरांडी, हेमंत सोरेन और गेगांग अपांग रैली में शामिल हुए। आठ पूर्व केंद्रीय मंत्री- मल्लिकार्जन खड़गे, शरद यादव, अजित सिंह, शरद पवार, यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, शत्रुघ्न सिन्हा और राम जेठमलानी ने हिस्सा लिया। इनके अलावा, राजद नेता व बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, बसपा सुप्रीमो मायावती के प्रतिनिधि व राज्यसभा सदस्य सतीश चंद्र मिश्रा, पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता व गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी भी मंच पर मौजूद रहे।

167 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech