Loading... Please wait...

राष्ट्रपति चुनाव: 4 राज्यों में क्रॉस वोटिंग!

नई दिल्ली। देश के चौदहवें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए सोमवार को वोटिंग हुई, जो लगभग 5 बजे तक चली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के समेत विभिन्न दलों के नेताओं ने शुरुआती दौर में ही मतदान किया। संसद भवन और देश की सभी 31 विधानसभाओं में सुबह दस बजे मतदान शुरू होने से पहले ही सांसद और विधायक मतदान करने के लिए आने शुरू हो गए थे और कई स्थानों पर वे पंक्ति में खड़े दिखे।

देशभर में कुछ राज्यों से क्रॉस वोटिंग की खबर आई है। जहां विपक्ष के साथ पक्ष के भी कुछ विधायकों ने एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को वोट दिया है। त्रिपुरा के 7 विधायकों ने कोविंद को वोट दिया है। कांग्रेस के एक विद्रोही विधायक और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से बर्खास्त छह विधायकों ने सोमवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को वोट दिया। तृणमूल से बर्खास्त छह विधायकों ने नेता सुदीप रॉय बर्मन ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान करने के बाद मीडिया से कहा, पूर्व घोषणा के अनुसार, हम छह विधायकों ने रामनाथ कोविंद को मतदान किया।

कांग्रेस विधायक रतन लाल नाथ ने अपने पहले की घोषणा के अनुसार कोविंद को वोट दिया। वहीं गुजरात में भाजपा के बागी विधायक ने क्रास वोटिंग की। राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान के दौरान भारतीय जनता पार्टी के बागी विधायक नलिन कोटडिया ने विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार के पक्ष में मतदान किया जबकि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजग उम्मीदवार और वहां के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के बावजूद गुजरात में उनकी पार्टी जनता दल यूनाइटेड एकमात्र विधायक और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष छोटूभाई वसावा ने मतदान का बहिष्कार कर दिया।

182 सदस्यों वाली गुजरात विधानसभा में भाजपा के 123 विधायकों में से एक नलिन कोटडिया, जो वास्तव में पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई के नेतृत्व में बनी गुजरात परिवर्तन पार्टी की टिकट पर धारी सीट से चुने गए थे, जिसके उनके समेत कुल दो विधायकों का बाद में पार्टी समेत भाजपा में विलय हो गया था, ने आज मीरा कुमार के पक्ष में मतदान किया। पाटीदार आरक्षण आंदोलन के समर्थक और भाजपा से बगावत कर चुके कोटडिया ने कहा कि उन्होंने मीरा कुमार के पक्ष में जानबूझ कर मतदान किया। उधर वसावा ने जो आदिवासी सीट भरूच के झगडिया के विधायक हैं, ने आदिवासी मुद्दों को लेकर सरकार से अपनी कथित नाराजगी के चलते मतदान का बहिष्कार कर दिया।

वहीं उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की अपील को दरकिनार करते हुए शिवपाल यादव ने रामनाथ कोविंद को वोट दिया। मतदान करने के लिए विधानसभा के तिलक हाल में करीब 1315 बजे पहुंचे यादव ने पत्रकारों से कहा, रामनाथ कोविंद के पक्ष में वोट करूंगा। कोविंद को मेरा खुला समर्थन है। वह राष्ट्रपति पद के योग्य उम्मीदवार हैं। मेरी सभी विधायकों से अपील है कि वे कोविंद के पक्ष में वोट करें। समाजवादी पार्टी से विधायक शिवपाल सिंह यादव का दावा है कि उनकी पार्टी से 15 विधायकों ने रामनाथ कोविंद को वोट दिया है। वहीं पश्चिम बंगाल की 294 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा का प्रतिनिधित्व नहीं के बराबर होने पर भी विधानसभा में कोविंद के समर्थन में छह विधायकों का वोट लगभग तय माना जा रहा है। इन विधायकों में से तीन भाजपा के हैं जबकि बाकी तीन उसके सहयोगी दल गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के हैं।

वहीं दिल्ली में आप ने विपक्ष की साझा उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन की घोषणा की है, लेकिन पार्टी के कई विधायक निलंबित हैं और ऐसी संभावना है कि क्रास वोटिंग हो सकती है। वहीं इस पर कपिल मिश्रा ने कहा कि मेरा वोट उसे गया है, जो देश को अगला राष्ट्रपति बनने जा रहा है। वहीं विश्वासनगर से भाजपा विधायक शर्मा ने मतदान के बाद क्रास वोटिंग की प्रबल संभावना व्यक्त करते हुए कहा राष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक उम्मीदवार भारी अंतर से जीतेंगे, आप के कम से कम 10-12 विधायक केजरीवाल से खुश नहीं है और उम्मीद है कि ये रामनाथ कोविंद के पक्ष में वोट डालेंगे।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

264 Views

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd