रालोसपा ने एनडीए से नाता तोड़ा

नई दिल्ली। आगामी आम चुनाव के लिए बिहार में सीटों के बंटवारे के फार्मूले से नाराज होकर राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) के प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने सोमवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाता तोड़ लिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार सामाजिक न्याय का एजेंडा छोड़कर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) का एजेंडा लागू कर रही है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के कल नतीजे आने की पूर्व संध्या पर श्री कुशवाहा के इस्तीफे से राजग को गहरा झटका लगा है। सीटों के बंटवारों को लेकर पिछले कुछ महीनों से वह काफी नाराज चल रहे थे। उनके बयानों से उनके राजग छोड़ने के संकेत पहले से ही मिल रहे थे।

कुशवाहा ने यहां अपने आवास पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री को अपना इस्तीफा आज सौंप दिया। उन्होंने कहा,“सामाजिक न्याय के एजेंडे पर काम करने के राजग के वायदे के कारण रालोसपा गठबंधन में शामिल हुई थी, लेकिन मुझे ऐसा लगा कि मोदी सरकार अपने सामाजिक न्याय के रास्ते से भटक गयी है और वह संघ के एजेंडे पर पूरी तरह चलने लगी है।

कुशवाहा ने अन्य दलों के साथ गठबंधन के एक सवाल के जवाब में कहा कि रालोसपा ने फिलहाल अभी कोई फैसला नहीं किया है, लेकिन इसने अपने सारे विकल्प खुले रहे हैं। उन्होंने कहा, रालोसपा के पास अकेले चुनाव लड़ने, महागठबंधन में शामिल होने और तीसरे मोर्चे के गठन का विकल्प खुला है। इस बारे में पार्टी में जल्द ही फैसला लिया जायेगा।

राम मंदिर पर हो रही राजनीति को लेकर एक सवाल के जवाब में श्री कुशवाहा ने कहा कि उनकी पार्टी किसी भी धार्मिक स्थलों पर निर्माण के विरोध में नहीं है, लेकिन इसे उचित तरीके से किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि राजनीतिक दलों का काम जनहित के कार्य करना है, न कि मंदिर-मस्जिद बनवाना।” गौरतलब है कि रालोसपा ने 2014 के आम चुनावों में तीन सीटें जीती थीं। ऐसी जानकारी है कि इस बार भाजपा ने बिहार में सीटों को लेकर श्री राम विलास पासवान के नेतृत्व वाली लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) को ज्यादा तरजीह दी है, जबकि रालोसपा को किनारे किया जाता रहा है।

135 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।