10 लाख लोगों को लगा टीका!

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए टीका लगवाने वाले लोगों की संख्या 10 लाख के करीब पहुंच गई है। गुरुवार को देश के 27 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में टीकाकरण अभियान चला, जिसमें एक लाख 92 हजार 581 लोगों को टीका लगाया गया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि गुरुवार की शाम छह बजे तक देश में टीका लगवाने वालों की कुल संख्या नौ लाख 99 हजार 65 हो गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने बताया कि राजस्थान में टीका लगवाने के बाद 20 जनवरी को एक व्यक्ति के हैमरेज की शिकायत हुई, जिसे अस्पताल में भरती कराया गया है।

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने वैक्सीन को पूरी तरह से सुरक्षित बताते हुए गुरुवार को कहा कि पहले पांच दिन के टीकाकरण के दौरान छह सौ लोगों को साइड इफेक्ट हुए हैं। हालांकि उन्होंने इसे स्वाभाविक बताया। वैक्सीन लगवाने के बाद अब तक चार लोगों की मौत हुई है लेकिन सरकार का कहना है कि इनका संबंध वैक्सीन से नहीं है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव ने यह भी कहा कि वैक्सीन के लिए बनाए गए डिजिटल प्लेटफॉर्म कोविन को अपग्रेड किया गया है।

बहरहाल, वैक्सीन लगवाने के बाद मौत होने की खबरों पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि उत्तर प्रदेश और लंगाना में एक-एक व्यक्ति की, जबकि कर्नाटक में दो लोगों की मौत की खबर आई है। मंत्रालय ने कहा है कि उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में मरने वालों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से साफ है कि मौत की वजह वैक्सीनेशन नहीं, बल्कि दूसरी समस्या है। वहीं, तेलंगाना में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अब तक देश में गंभीर साइड इफेक्ट का कोई मामला सामने नहीं आया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी देते हुए कहा- सच्चाई है कि वैक्सीनेशन पूरी तरह सुरक्षित और प्रभावी है। जो भी साइड इफेक्ट के मामले सामने आ रहे हैं, वो सामान्य हैं। किसी भी वैक्सीनेशन में ऐसा होता है। उन्होंने कहा- वैक्सीनेशन कोरोना के ताबूत में अंतिम कील साबित होगा। ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग राजनीतिक फायदा लेने के लिए वैक्सीनेशन को लेकर गलत बातें फैला रहे हैं। इसके कारण कुछ लोग वैक्सीन लगवाने में कतरा रहे हैं। उन्होंने कहा- सरकार कतई नहीं चाहती कि वैक्सीनेशन के बाद किसी पर भी गलत प्रभाव पड़ें। सभी को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है।

दूसरे चरण में पीएम, सीएम को लगेगा टीका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उनकी सरकार के दूसरे मंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्रियों सहित तमाम विधायकों, सांसदों को दूसरे चरण में टीका लगाया जाएगा। हालांकि यह पता नहीं है कि दूसरा चरण कब से शुरू होगा। गौरतलब है कि पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जा रहा है। लेकिन टीकाकरण की रफ्तार बहुत कम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी को टीकाकरण की शुरुआत की थी और कहा था कि यह दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है।

भारत सरकार ने दो वैक्सीन को मंजूरी दी है और दोनों वैक्सीन लोगों को लगाई जा रही है। पहले चरण में तीन करोड़ लोगों को टीका लगना है और दूसरा चरण में करीब 27 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाना है। दूसरे चरण में 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 50 साल से कम उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। प्रधानमंत्री से लेकर ज्यादातर मुख्यमंत्री तक इसके दायरे में आ जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares