अजित पवार का दावा, शरद पवार का इनकार

मुंबई। शनिवार की शाम को जब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार की बुलाई बैठक में पार्टी के 49 विधायकों के शामिल होने की खबर आई तो ऐसा लगा था कि अजित पवार का और उनके साथ साथ भाजपा का भी खेल खत्म हो गया। पर असल में ऐसा होता नहीं दिख रहा है। अजित पवार ने रविवार को ट्विट किया और कहा कि वे एनसीपी में ही हैं और भाजपा-एनसीपी मिल कर स्थिर सरकार देंगे। उन्होंने 24 घंटे से ज्यादा समय के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बधाई देने वाले ट्विट पर उनका धन्यवाद किया और उनसे भी कहा कि महाराष्ट्र में स्थिर सरकार रहेगी।

अजित पवार के रविवार के ट्विट के बाद राज्य में सस्पेंस बढ़ गया है। उनके विश्वास से ऐसा लग रहा है कि उनका समर्थन करने वाले विधायकों की संख्या बढ़ रही है। वैसे भी रविवार को एनसीपी ने 54 में से 41 विधायकों के साथ होने का दावा किया है। अगले दो-तीन दिन में यह  संख्या और कम हो सकती है। बहरहाल, महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने ट्विट किया- मैं एनसीपी में ही रहूंगा, पवार साहेब ही हमारे नेता। एनसीपी-भाजपा गठबंधन स्थिर सरकार देगा।

इसके जवाब में एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने ट्विट किया- भाजपा के साथ गठबंधन का कोई सवाल ही नहीं उठता। अजित पवार का बयान गलत है। उससे गलतफहमी पैदा हो रही है। लोगों के बीच गलत संदेश जा रहा है। शरद पवार ने दो टूक अंदाज में कहा कि भाजपा से गठबंधन का सवाल ही पैदा नहीं होता है। उन्होंने लोगों को सावधान करते हुए कहा कि अजित पवार भ्रम फैला रहे हैं।

इस बीच रविवार को ही अजित पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए ट्विट किया- हम आपको स्थिर सरकार का भरोसा दिलाते हैं जो राज्य के लोगों के कल्याण के लिए काम करेगी। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने अजित पवार को शनिवार की सुबह में ही ट्विट करके बधाई दी थी, जिसका जवाब उन्होंने रविवार को दोपहर के बाद दिया। अजित पवार के इस रुख के बाद एक बार फिर शरद पवार की भूमिका पर सवाल उठने लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares