ट्रंप ने कहा, सब ठीक है! - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

ट्रंप ने कहा, सब ठीक है!

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक में अमेरिकी सैनिकों के दो अड्डों पर ईरान के मिसाइल हमले पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा- सब ठीक है। इससे पहले पेंटागन ने पुष्टि करते हुए कहा कि मंगलवार रात ईरान ने इराक स्थित ऐसे कम से कम दो सैन्य अड्डों पर एक दर्जन से अधिक बैलिस्टिक मिसाइल दागी, जहां अमेरिकी सेना और उसके सहयोगी बल ठहरे हुए हैं।

ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी के मारे जाने का बदला लेने के लिए ईरान ने अमेरिका के सैन्य बलों पर हमला किया। इस हमले के कुछ ही समय बाद ट्रंप ने ट्विट किया- सब ठीक है। इराक में दौ सैन्य अड्डों पर ईरान ने मिसाइल दागी। इससे हुए नुकसान और मारे गए लोगों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। अब तक सब ठीक है। हमारे पास दुनिया की सबसे शक्तिशाली और सर्वसाधनयुक्त सेना है।

इससे पहले ट्रंप ने राष्ट्रीय सुरक्षा दल के साथ बैठक की, जिसमें विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर मौजूद थे। हालांकि बैठक की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। व्हाइट हाउस के मुताबिक राष्ट्रपति ट्रंप ने कतर अमीर शेख तमीम बिन हदम अल थानी से बात की और अमेरिका के साथ उनके देश की मजबूत साझेदारी के लिए शुक्रिया अदा किया। ट्रंप ने जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल को भी फोन किया और दोनों नेताओं ने पश्चिम एशिया और लीबिया में सुरक्षा हालात पर चर्चा की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टागस ने कहा कि पोम्पियो ने कुर्दिस्तान की क्षेत्रीय सरकार के प्रधानमंत्री मसरूर बारजानी को फोन किया और ईरान के मिसाइल हमले की उन्हें जानकारी दी। इस बीच डेमोक्रेटिक पार्टी के नेतृत्व ने पश्चिम एशिया के साथ बढ़ते तनाव का दोष ट्रंप को दिया। अमेरिका के पूर्व उप राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा- इराक और ईरान में आज जो कुछ भी हो रहा है, उसका अनुमान लगाया जा सकता था। उन्होंने ईरान के परमाणु समझौते से अलग होने और जनरल सुलेमानी की हत्या का आदेश देने के ट्रंप के फैसलों की आलोचना की।

भारत की पहल का स्वागत करेगा ईरान

अमेरिका और ईरान के बीच लगातार बढ़ रहे तनाव के बीच ईरान ने कहा है कि अगर भारत दोनों देशों के बीच शांति बहाली की कोई पहल करता है तो ईरान उसका स्वागत करेगा। भारत में ईरान के राजदूत अली चेगेनी ने बुधवार को कहा कि वे अमेरिका के साथ अपने देश के तनाव को कम करने की दिशा में भारत की ओर से उठाए गए किसी भी कदम का स्वागत करेंगे।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह शुक्रवार को इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरान के शीर्ष कमांडर कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बहुत बढ़ गया है। अमेरिका से बदला लेने के लिए ईरान ने इराक स्थित अमेरिकी सैन्य अड्डे पर मिसाइल हमला भी किया है। इस हमले के कुछ ही घंटे बाद चेगेनी ने यह बयान दिया है।

ईरान के दूतावास में सुलेमानी के लिए आयोजित श्रद्धांजलि सभा के बाद चेगेनी ने संवाददाताओं से कहा- दुनिया में शांति बनाए रखने में सामान्य तौर पर भारत बहुत अच्छी भूमिका निभाता है। साथ ही भारत इसी क्षेत्र में है। हम सभी देशों, खास तौर से अपने मित्र भारत की ओर से ऐसे किसी भी कदम का स्वागत करेंगे तो तनाव को बढ़ने ना दे। उन्होंने कहा- हम युद्ध नहीं चाहते हैं, हम क्षेत्र में सभी लोगों के लिए शांति और समृद्धि चाहते हैं। हम भारत के किसी भी कदम और परियोजना का स्वागत करते हैं जो दुनिया में शांति और समृद्धि लाने में मददगार हो।

भारत ने जारी किया परामर्श

अमेरिका और ईरान में चल रहे तनाव के बीच भारत ने अपने नागरिकों के लिए एक परामर्श जारी किया है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है- इराक में मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए भारतीय नागरिकों को सुझाव दिया गया है कि वे अगली अधिसूचना तक इराक की गैरजरूरी यात्रा से परहेज करें। इस बीच यह भी खबर है कि भारत ने खाड़ी क्षेत्र में युद्धपोत तैनात किया है।

इराक में रह रहे भारतीय नागरिकों को चौकन्ना रहने की सलाह दी गई है, और कहा गया है कि उन्हें इराक के भीतर यात्रा से भी परहेज करना चाहिए। विदेश मंत्रालय ने कहा है- बगदाद में हमारे दूतावास और इरबिल में वाणिज्य दूतावास इराक में बसे भारतीयों को सभी सेवाएं उपलब्ध करवाने के लिए सामान्य रूप से कार्य करते रहेंगे। इसके साथ ही सरकारी सूत्रों के मुताबिक, खाड़ी क्षेत्र में तनाव को देखते हुए भारत ने सभी भारतीय एयरलाइनों को ईरान, इराक व खाड़ी क्षेत्र के वायु क्षेत्र के इस्तेमाल से बचने की सलाह दी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *