मंदिर के लिए दी जाए जमीन

लखनऊ। अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद के भूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट में चल रहे मुकदमे के सुनवाई के आखिरी चऱण में पहुंचने के बीच मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने बड़ी अपील की है। इंडियन मुस्लिम्स फॉर पीस  के बैनर तले देश के अनेक मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने लखनऊ में एक सम्मेलन आयोजित किया। इस सम्मेलन में मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन भगवान राम का मंदिर बनाने के लिए दे दी जाए।

मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने कहा- इससे देश में सद्भावना का माहौल बनेगा। उन्होंने मुस्लिम समाज के लोगों से अपील करते हए कहा- दूसरों के जज्बात का ख़याल रखने पर  ही वे आपके जज्बात का ख्याल रखेंगे। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर तक होगी और नवंबर में इस मामले में फैसला आएगा। इससे पहले मुस्लिम बुद्धिजीवियों की यह मांग बेहद अहम है। मुस्लिम बुद्धिजीवियों के इस सम्मेलन में मशहूर अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बड़े भाई लेफ्टिनेंट जनरल जमीरुद्दीन शाह, मशहूर कार्डियोलाजिस्ट पद्मश्री डॉ मंसूर हसन, ब्रिगेडियर अहमद अली, पूर्व आईएएस अनीस अंसारी, रिज़वी, पूर्व आईपीएस पूर्व जज बीडी नकवी, डॉ. कौसर उस्मान सहित बड़े पैमाने पर मुस्लिम बुद्धिजीवी शामिल हुए।

बाद में लेफ्टिनेंट जनरल जमीरुद्दीन शाह ने कहा कि अदालत से बाहर बैठक कर विवादित जमीन मंदिर बनाने के लिए हिंदुओं को दे देना चाहिए और अगर मुसलमानों को अदालत से वह जमीन मस्जिद के लिए मिल भी जाए तो भी उसे हिंदुओं को दे देनी चाहिए। ब्रिगेडियर अहमद अली ने कहा कि देश में बेहतर माहौल बनाने के लिए मुसलमानों को इतनी कुर्बानी जरूर देनी चाहिए क्योंकि आम हिंदू की आस्था है कि उसी जगह पर भगवान राम का जन्म हुआ था। उन्होंने कहा- जब आप दूसरों के जज्बात का ख़याल रखेंगे तभी वे आपके जज्बात का ख़याल रखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares