वायु सेना को मिलेंगे 83 तेजस विमान

नई दिल्ली। चीन के साथ सीमा पर कई महीनों से चल रहे गतिरोध और पाकिस्तान के साथ तनाव के बीच भारत सरकार ने वायु सेना को मजबूत करने के लिए बड़ा फैसला किया है। केंद्र सरकार ने वायु सेना को मजबूत करने के लिए 83 तेजस लड़ाकू विमान खरीदने की मंजूरी दे दी है। इसमें 73 हल्के लड़ाकू विमान हैं और 10 एमके-1ए ट्रेनर विमान हैं। इस पर 48 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक में यह फैसला किया गया है। ये सभी लड़ाकू विमान हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड, एचएएल तैयार करेगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी देते हुए लिखा- ये सौदा देश के लिए गेम चेंजर साबित होगी। रक्षा के क्षेत्र में मैन्युफैक्चरिंग को मजबूती मिलेगी। लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट, एलसीए 1ए तेजस फाइटर तैयार करने के लिए एचएएल ने नासिक और बेंगलुरू में सेटअप तैयार कर लिया है। रक्षा मंत्री ने बताया- एलसीए तेजस के एमके1ए वैरिएंट में 50 की बजाय 60 फीसदी स्वदेशी उपकरण और तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एलसीए तेजस भारतीय वायु सेना का मजबूत आधार बनने जा रही है। इससे वायु सेना की मौजूदा ताकत में बड़ा इजाफा होगा।

हल्का लड़ाकू विमान तेजस, महत्वपूर्ण सैन्य अभियानों की क्षमता के लिए इलेक्‍ट्रानिक रूप से स्‍कैन रडार, बियांड विजुल रेंज यानी बीवीआर मिसाइल, इलेक्‍ट्रानिक वारफेयर सुइट और हवा में ही रिफ्यूलिंग जैसी सुविधाओं से सज्जित किया गया है। यह फिलहाल यह 50 फीसदी देशी है, जिसे बढ़ा कर 60 फीसदी करने की बात रक्षा मंत्री ने की है। बहरहाल, एचएएल को मिले इस आर्डर से आत्मनिर्भर अभियान को गति मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares