एमनेस्टी इंटरनेशनल पर सीबीआई का छापा

नई दिल्ली/बेंगलुरू। दुनिया भर में मशहूर मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया

के दफ्तरों पर सीबीआई ने छापा मारा है।

संस्थान के दिल्ली और बेंगलुरू स्थित दफ्तरों पर शुक्रवार को सीबीआई ने छापा मारा।

बताया जा रहा है कि सीबीआई का यह छापा विदेशी सहायता नियमन कानून,

एफसीआरए के उल्लंघन को लेकर मारा गया है। सीबीआई की कार्रवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए,

समूह ने कहा कि उसे देश में मानवाधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ बोलने के कारण निशाना बनाया जा रहा है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने बयान जारी कर कहा है कि

वह भारतीय और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पूरी तरह पालन करती है।

उसने यह भी आरोप लगाया कि यह कार्रवाई उसे परेशान करने के लिए की गई है।

एमनेस्टी ने एक बयान में कहा- पिछले एक साल के दौरान उत्पीड़न का एक स्वरूप उभरा है,

जब भी एमनेस्टी इंडिया भारत में मानवाधिकार उल्लंघनों के खिलाफ खड़ा हुआ है और बोला है।

उसने कहा कि वह भारतीय और अंतरराष्ट्रीय कानून का पूरी तरह से पालन करता है। उसने कहा- भारत में और अन्य स्थान पर हमारा काम सार्वभौमिक मानवाधिकार को बरकरार रखना और उसके लिए संघर्ष करना है। संस्था ने कहा कि ये कुछ ऐसे मूल्य हैं, जो कि भारतीय संविधान में निहित हैं और बहुलवाद, सहिष्णुता और असहमति की एक लंबी और समृद्ध भारतीय परंपरा से प्रवाहित होते हैं।

गौरतलब है कि कि इससे पहले पिछले साल अक्टूबर महीने में प्रवर्तन निदेशालय, ईडी ने बेंगलुरू में एमनेस्टी के कार्यालय पर छापेमारी की थी। ईडी ने एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के खिलाफ विदेशी मुद्रा विनिमय के धोखाधड़ी के एक मामले में उसके दो ठिकानों पर तलाशी ली थी। अधिकारियों ने कहा था कि विदेश मुद्रा विनिमय प्रबंधन कानून, फेमा के तहत केंद्रीय जांच एजेंसी ने दस्तावेजों की तलाशी ली थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares