अपने सेवक पर भरोसा रखें, पूर्वोत्तर के हितों का ध्यान रखा जाएगा : मोदी

रांची (झारखंड)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पूर्वोत्तर, विशेषकर असम के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा कि किसी भी कीमत में उनके हितों की रक्षा की जाएगी।

धनबाद में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा बाबा भोलेनाथ के स्थान से मैं असम सहित पूर्वोत्तर के लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि उनकी संस्कृति, मान्यताओं और भाषा पर किसी प्रकार का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। उनके हितों की रक्षा की जाएगी। उन्होंने कहा मैं उन्हें विश्वास दिलाना चाहता हूं कि वह पूर्वोत्तर के विकास के लिए प्रतिबद्ध मोदी सरकार पर भरोसा रखें, अपने सेवक पर भरोसा रखें। पूर्व प्रधानमंत्रियों से कही ज्यादा बार मैंने पिछले पांच वर्षो में पूर्वोत्तर का दौरा किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा सीएबी (नागरिक संशोधन विधेयक) को लेकर कांग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टियां भ्रम पैदा कर रही हैं।

मैं पूर्वोत्तर की जनता से अपील करता हूं कि वे इन लोगों के बहकावे में ना आएं। असम के हितों की रक्षा की जाएगी। हमें असम की संस्कृति पर गर्व है। कांग्रेस द्वारा नागरिक संशोधन विधेयक पर यू-टर्न लेने के लिए उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा आदिवासी, दलित और अन्य वर्ग के लोगों का विश्वास कांग्रेस ने खो दिया है। वह अब सिर्फ एक समुदाय के लोगों के वोट पर निर्भर हैं और सीएबी पर झूठ का सहारा ले रहे हैं। देश के नागरिकों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कांग्रेस के नेताओं ने पाकिस्तान और बांग्लादेश से भारत आए लोगों को नागरिकता देने का वादा किया था। 1947 में भारत का विभाजन किया गया और 1971 में बांग्लादेश बना।

इसे भी पढ़ें : सीआरपीएफ जवानों को कश्मीर से पूर्वोत्तर भेजा गया

इससे सबसे ज्यादा प्रभाव वहां रह रहे अल्पसंख्यकों पर पड़ा था। उन्होंने कहा पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में यह अल्पसंख्यक पीढ़ियों से वहां रह रहे हिंदू, सिख, पारसी, जैन और ईसाई समुदाय के लोग थे। उनपर विभाजन थोपा गया था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा अल्पसंख्यकों पर अमानवीय व्यवहार किया गया और महिलाओं को विभिन्न रूप से शोषण सहन करना पड़ा। मंदिरों, चचरें, गुरुद्वारों में तोड़फोड़ की गई। वे (विस्थापित अल्पसंख्यक) देश के विभिन्न हिस्सों में दशकों से रह रहे हैं। कांग्रेस ने उनके साथ खोखले वादे किए। यह भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) थी, जिसने उन वादों को पूरा किया। उन्होंने लोगों से झारखंड विधानसभा चुनावों में भाजपा को वोट देने का आग्रह किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares