उद्धव गठबंधन के होंगे सीएम

मुंबई। महाराष्ट्र में पिछले एक महीने दो दिन से चल रहे सियासी ड्रामे का पटाक्षेप हो गया है। यह भी तय हो गया कि राज्य में शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस की साझा सरकार बनेगी और शिव सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे राज्य के मुख्यमंत्री बनेंगे। उद्धव ठाकरे को शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस की साझा बैठक में गठबंधन का नेता चुना गया। इस गठबंधन का नाम महाविकास अघाड़ी पहले ही रखा जा चुका गया है। बैठक में यह भी तय किया गया कि उद्धव ठाकरे एक दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

मंगलवार की शाम को मुंबई के होटल ट्राइडेंट में तीनों पार्टियों के विधायकों की बैठक हुए, जिसमें उद्धव को नेता चुना गया। इसी बैठक में एक दिसंबर को शपथ का फैसला हुआ और साथ ही यह भी तय हुआ कि उद्धव का शपथ ग्रहण एक दिसंबर को शाम पांच बजे शिवाजी पार्क में होगा। शिव सेना अध्यक्ष अपनी पत्नी रश्मि ठाकरे और दोनों बेटों आदित्य और तेजस के साथ होटल पहुंचे थे। नेता चुने जाने के बाद उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार को धन्यवाद दिया। उद्धव ने कहा कि उन्होंने महाराष्ट्र का नेतृत्व करने के बारे में कभी सोचा भी नहीं था।

इससे पहले मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस और उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने पद से इस्तीफा दिया। इन दोनों के इस्तीफे के बाद शिव सेना प्रवक्ता संजय राउत ने दावा किया था कि उद्धव ठाकरे पांच साल मुख्यमंत्री रहेंगे। तीनों पार्टियों की बैठक के दौरान कहा जा रहा था कि अजित पवार भी इसमें शामिल सकते हैं। लेकिन, एनसीपी विधायक दल के नेता जयंत पाटिल ने कहा कि अजित बैठक में नहीं आएंगे।

विधायक दल के नेता का चुनाव होने के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि अघाड़ी के तीन सदस्य रात में राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा में भाजपा 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। शिव सेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिली हैं। इन तीनो पार्टियों के विधायकों की संख्या 154 है, जबकि बहुमत का आंकड़ा 145 का है। इन तीन पार्टियों को समाजवादी पार्टी के दो और सात निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है, जिससे यह आंकड़ा 163 विधायकों का बनता है।

विधानसभा चुनाव में भाजपा और शिव सेना ने मिल कर बहुमत का 145 का आंकड़ा पार कर लिया था। लेकिन शिव सेना ने ढाई-ढाई साल तक दोनों पार्टियों के मुख्यमंत्री बनाने की मांग रख दी थी, जिसे भाजपा ने मंजूर नहीं किया। शिव सेना का कहना था कि भाजपा के साथ समझौता इसी फॉर्मूले पर हुआ था, लेकिन भाजपा का दावा है कि ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ था। इसे लेकर मतभेद इतना बढ़ा कि दोनों पार्टियों की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई।

अमित शाह इस्तीफा दें: भाकपा

फड़नवीस को जवाब दूंगा: उद्धव

महा विकास अघाड़ी का नेता चुने जाने के बाद शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा-  मैं उन सभी सवालों के जवाब देने को तैयार हूं, जो देवेंद्र फड़नवीस ने उठाए। मैं किसी बात से नहीं डरता। झूठ हिंदुत्व का हिस्सा नहीं हैं। जब आपको जरूरत थी तो आपने गले लगा लिया और जब जरूरत नहीं पड़ी तो आपने हमें छोड़ दिया।

उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा- आपने ही दूरी बनाने की कोशिश की। मुझे अब जो जिम्मेदारी सौंपी गई है, मैं उसे निभाने को तैयार हूं। उन्होंने कहा- मैं अकेला नहीं, मेरे साथ आप सभी मुख्यमंत्री हैं। जो आज हुआ है, वह वास्तविक लोकतंत्र है। हम साथ मिल कर राज्य के किसानों के आंसू पोछेंगे। हम मिल कर एक बार फिर वहीं महाराष्ट्र बनाएंगे, जिसका सपना छत्रपति शिवाजी महाराज ने देखा था। मैंने कभी भी प्रदेश का नेतृत्व करने का सपना नहीं देखा था। मैं सोनिया गांधी और अन्य को धन्यवाद देना चाहता हूं। हम एक-दूसरे पर विश्वास रखते हुए देश को एक नई दिशा दे रहे हैं।

एनसीपी-कांग्रेस के डिप्टी सीएम होंगे

शिव सेना, एनसीपी और कांग्रेस ने मंगलवार की बैठक में मुख्यमंत्री का नाम तय किया। सरकार बनाने का फार्मूला तीनों पार्टियां पहले ही तय कर चुकी हैं। इस फार्मूले के मुताबिक शिव सेना और एनसीपी के 15-15 मंत्री बन सकते हैं। कांग्रेस से 12 मंत्री होंगे। स्पीकर का मसला अब भी उलझा है। कांग्रेस चाहती है कि स्पीकर का पद उसे मिले। सरकार बनाने के इस फार्मूले के तहत यह भी तय हुआ है कि एनसीपी और कांग्रेस से एक-एक डिप्टी सीएम होंगे।

एनसीपी की ओर से विधायक दल के नेता जयंत पाटिल को उप मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। कांग्रेस की ओर से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बाला साहेब थोराट को उप मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। इससे पहले मंगलवार को ही थोराट को पार्टी विधायक दल के नेता चुना गया। कांग्रेस अब आने वाले दिनों में नया प्रदेश अध्यक्ष चुनेगी। पहले कहा जा रहा था कि दोनों पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण सरकार में शामिल होंगे पर बाद में इससे मना कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares