सूचना आयोग में नियुक्तियों पर विवाद

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना आयोग में नियुक्ति नहीं हो रही थी तो एक विवाद चल रहा था और अब जब नियुक्तियां हो रही हैं तो नया विवाद शुरू हो गया है। कांग्रेस पार्टी ने मुख्य सूचना आयुक्त के तौर पर विदेश सेवा के रिटायर अधिकारी को नियुक्त करने का विरोध किया है। सूचना आयुक्त के तौर पर हो रही दो नियुक्तियों का भी कांग्रेस ने विरोध किया है और कहा है कि सरकार ने अपने लोगों को उपकृत कर रही है।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने विदेश सेवा के रिटायर अधिकारी यशवर्धन सिन्हा को मुख्य सूचना आयुक्त नियुक्त करने का फैसला किया है। सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि चुनाव आयोग में आयुक्त के तौर पर उनसे वरिष्ठ अधिकारी काम कर रही हैं। उन्हें मुख्य सूचना आयुक्त नियुक्त करना चाहिए। उन्होंने सरकार से यह सवाल भी पूछा है कि साढ़े तीन सौ से ज्यादा आवेदनों में से किस आधार पर सात लोगों को शॉर्टलिस्ट किया गया और फिर उनमें से कैसे तीन लोगों को चुना जा रहा है।

बहरहाल, वरिष्ठ पत्रकार उदय महुरकर को सूचना आयुक्त बनाया जा रहा है। कांग्रेस ने इस पर भी आपत्ति की है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने केंद्रीय सूचना आयोग रिटायर बाबुओं का एक हब बन गया है। उन्होंने महूरकर की नियुक्ति पर आपत्ति जताते हुए कहा है- एक पत्रकार को सूचना आयुक्त के तौर पर चुन गया, जिसने पद के लिए आवेदन भी नहीं दिया था। उन्होंने कहा है- उस पत्रकार को बीजेपी और प्रधानमंत्री के प्रति वफादारी की वजह से चुना गया है।

अधीर चौधरी ने कहा- मुख्य सूचना आयुक्त के तौर पर वाईके सिन्हा को चुना गया है, जिनके पास भारत में सरकार में काम करने का पर्याप्त अनुभव नहीं है। उन्होंने कहा- सरकार ने गलत तरीके से मुख्य सूचना आयुक्त और सूचना आयुक्त का चुनाव किया है। चौधरी ने कहा- सूचना आयुक्त के पद के लिए 355 लोगों ने आवेदन दिया था, जबकि मुख्य सूचना आयुक्त के पद के लिए 139 लोगों ने आवेदन दिया था। उदय महूरकर ने आवेदन भी नहीं किया था फिर भी उन्हें सूचना आयुक्त के पद के लिए चुना जा रहा है। एक और अधिकारी सरोज पुन्हानी को भी सूचना आयुक्त नियुक्त किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares