• डाउनलोड ऐप
Monday, April 19, 2021
No menu items!
spot_img

कोरोना से दस राज्यों में बढ़ा संकट

Must Read

मुंबई। महाराष्ट्र के कई शहरों में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैलने लगा है। पिछले कुछ दिनों में केरल के हालात सुधरें है, जबकि महाराष्ट्र में स्थिति बिगडऩे लगी है। महाराष्ट्र में संक्रमितों का आंकड़ा 21 लाख पहुंच गया है। पिछले एक हफ्ते में नए केसेज में दो सौ फीसदी से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने अमरावती जिले में एक हफ्ते के संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया है। इसके अलावा पुणे में कई चीजें बंद कर दी गई हैं। इस बीच 10 राज्यों में केसेज बढ़ने से एक्टिव केसेज में भी बढ़ोतरी हुई है और भारत एक बार फिर दुनिया के सर्वाधिक संक्रमित 15 देशों की सूची में पहुंच गया है।

देश में संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र के अलावा कई दूसरे राज्यों में भी कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ रहा है। कम से कम 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में संक्रमितों का आंकड़ा चिंता बढ़ाने वाला है। देश में सबसे ज्यादा संक्रमित महाराष्ट्र के अलावा कर्नाटक, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, पुड्डुचेरी, त्रिपुरा और चंडीगढ़ में मरीजों की संख्या बढ़ रही है। केरल में पिछले तीन दिनों से हालात में सुधार हुआ है। इस बीच सरकार ने पूरे देश में टेस्टिंग बढ़ाने का फैसला किया है।

मरीजों की संख्या बढ़ता देख कर महाराष्ट्र सरकार ने एक बार फिर से राज्य के कई शहरों में सख्ती शुरू कर दी है। अमरावती में एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है। सोमवार रात आठ बजे से यह लॉकडाउन लागू हो जाएगा। इस दौरान जरूरी सामान की दुकानें सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक खुली रहेंगी। उधर पुणे जिला प्रशासन ने नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। वहां रात 11 से सुबह छह बजे तक लोगों को घरों से निकलने पर रोक लग गई है। केवल इमरजेंसी में निकलने की इजाजत होगी।

पुणे में स्कूल-कॉलेज भी 28 फरवरी तक बंद कर दिए गए हैं। पुणे के बाद अब नागपुर, यवतमाल और मुंबई में भी नाइट कर्फ्यू लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। राज्य के मंत्री विजय वेड्‌डेटीवार ने भी इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा कि आज मुख्यमंत्री से बैठक में इस पर फैसला हो जाएगा। इस बीच पुलिस ने मुंबई के पॉश इलाके बांद्रा में एक रेस्तरां बंद करा दिया है। इस रेस्तरां में एक समय दो सौ से ज्यादा लोग मौजूद थे।

इस बीच सरकार ने पूरे देश में फिर से टेस्टिंग बढ़ाने का ऐलान किया है। गौरतलब है कि पूरे देश में हर दिन होने वाली टेस्टिंग में पिछले एक महीने में काफी कमी आई है। दिसंबर तक जहां, हर दिन 11 लाख के करीब लोगों की जांच होती थी, वहां अब औसतन छह लाख लोगों की जांच हो रही है। माना जा रहा है कि टेस्टिंग कम होने से राज्यों में कोरोना केस बढ़ने लगे हैं। अब फिर से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नौ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र लिख कर टेस्टिंग बढ़ाने का आदेश दिया है। मंत्रालय ने कहा है कि टेस्टिंग के जरिए ज्यादा से ज्यादा कोरोना संक्रमितों को पता लगाया जाए ताकि संक्रमण को फिर से फैलने से रोका जा सके।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

पार्टी के बड़े नेता राहुल के पक्ष में

कांग्रेस के तमाम बड़े नेता राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के पक्ष में हैं। इन दिनों भारत की राजनीति...

More Articles Like This