• डाउनलोड ऐप
Monday, April 19, 2021
No menu items!
spot_img

नया स्ट्रेन 18 राज्यों में फैला

Must Read

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का संकट अब पूरे देश में बढ़ने लगा है। सबसे ज्यादा संक्रमित राज्य महाराष्ट्र में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन संक्रमितों की संख्या आठ हजार से ऊपर रही तो राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लगातार दूसरे दिन दो सौ से ऊपर संक्रमित मिले और लगातार चौथे दिन ऐसा हुआ कि ठीक होने वाले मरीजों की संख्या नए मरीजों से कम रही। जहां तक पूरे देश का सवाल है तो लगातार तीसरे दिन संक्रमितों की संख्या 15 हजार से ऊपर रही है। इस बीच खबर है कि कोरोना का नया स्ट्रेन अब 18 राज्यों में फैल गया है।

कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील से आया है। इसके अब तक 194 मामले सामने आ चुके हैं। केद्र सरकार ने देश में बढ़ते मामलों को देखते हुए इन सभी 18 राज्यों की निगरानी शुरू कर दी है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल, एनसीडीसी ने इन राज्यों से नए स्ट्रेन से जुड़े मरीजों की जानकारी और उनके संपर्क में आने वाले लोगों के बारे में जानकारी मांगी है।

शुक्रवार को महाराष्ट्र में 8,333 नए मामले आए, जबकि 4,936 लोग ठीक हुए। इस तरह शुक्रवार को भी एक्टिव केसेज में तीन हजार से ज्यादा की बढ़ोतरी हो गई। महाराष्ट्र में अब 67 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हो गए हैँ। केरल में शुक्रवार को 3,671 नए केसेज आए और 41 सौ से ज्यादा लोग ठीक हुए। केरल में अब एक्टिव मरीजों की संख्या 51 हजार से कुछ ज्यादा है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 256 केस आए और 193 लोग ठीक हुए।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन 194 लोगों में से 187 लोगों में ब्रिटेन का स्ट्रेन मिला है। दक्षिण अफ्रीकी स्ट्रेन के छह और ब्राजील के स्ट्रेन का एक केस है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने महाराष्ट्र, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, पंजाब आदि राज्यों को अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की निगरानी बढ़ाने को भी कहा है। इस बीच गृह मंत्रालय ने कोरोना की पुरानी गाइडलाइन को ही 31 मार्च तक लागू रखने का फैसला लिया है। इसके तहत कंटेनमेंट जोन में निगरानी आगे भी रखी जाएगी। पुरानी गाइडलाइन के मुताबिक ही ज्यादा लोगों के एक जगह इकट्ठा होने पर रोग रहेगी और कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने वालों को क्वरैंटाइन में रहना होगा।

गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए भी कहा है। देश में कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण एक मार्च से शुरू होगा। इस चरण में 10 हजार सरकारी केंद्रों और 20 हजार निजी अस्पतालों में टीका लगाया जाएगा। इसमें 45 साल से ऊपर के बीमार लोगों और 60 साल से ज्यादा के सभी लोगों का वैक्सीनेशन होगा। अगर इस आय वर्ग के लोग सरकारी केंद्रों में जाते हैं तो उनके लिए टीका मुफ्त होगा, लेकिन निजी अस्पतालों में उन्हें पैसे देना होगा।

इस बीच एंपॉवर्ड ग्रुप के चेयरमैन आरएस शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए किसी अतिरिक्त दस्तावेज की जरूरत नहीं है। उन्हें आधार कार्ड के जरिए अपनी पहचान साबित करनी होगी। 45 से 60 साल तक के लोगों को अपनी बीमारी का सर्टिफिकेट दिखाना होगा। जिन लोगों के पास इंटरनेट नहीं है, उनके लिए ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन का विकल्प रहेगा। टीका लगवाने वालों को-विन प्लेटफॉर्म पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। यह भी बताया गया है कि 27 और 28 फरवरी को वैक्सीनेशन का काम बंद रहेगा।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

पार्टी के बड़े नेता राहुल के पक्ष में

कांग्रेस के तमाम बड़े नेता राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के पक्ष में हैं। इन दिनों भारत की राजनीति...

More Articles Like This