कोरोना पर मोदी ने किया आगाह

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काफी अरसे के बाद कोरोना वायरस को लेकर सार्वजनिक रूप से कुछ कहा है। पहले जब वे राष्ट्र को संबोधित करते थे तब कोरोना के बारे में बोलते थे। काफी समय के बाद रविवार को उन्होंने रेडिया पर प्रसारित होने वाले अपने मासिक कार्यक्रम की मन की बात में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर देश के लोगों को आगाह किया। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है और अब भी वह उतना ही घातक है, जितना शुरुआत के दिनों में था। उन्होंने लोगों से पूरी सावधानी बरतने की अपील की।

उन्होंने मन की बात कार्यक्रम में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच लोगों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने महामारी के दौरान सकारात्मक रुख अपनाए रखा। उन्होंने कहा-  कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है। कई स्थानों पर यह तेजी से फैल रहा है। हमें बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। हमें यह ध्यान रखना है कि कोरोना वायरस अब भी उतना ही घातक है जितना शुरू में था। इसलिए, हमें पूरी सावधानी बरतनी है।

मोदी ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से पूरे देश ने एकजुट होकर जिस तरह कोरोना वायरस से मुकाबला किया है उसने अनेक आशंकाओं को गलत साबित कर दिया है। उन्होंने कहा कि देश में इस महामारी से उबरने की दर अन्य देशों के मुकाबले बेहतर है। साथ ही कोरोना वायरस के संक्रमण से मृत्यु दर भी दुनिया के ज्यादातर देशों से काफी कम है। प्रधानमंत्री ने कहा- निश्चित रूप से एक भी व्यक्ति को खोना दुखद है, लेकिन भारत अपने लाखों देशवासियों का जीवन बचाने में भी सफल रहा है।

प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए लोगों से चेहरे पर मास्क लगाने या गमछे का उपयोग करने, दो गज की दूरी का पालन करने, लगातार हाथ धोने, कहीं पर भी थूकने की आदत से तौबा करने के साथ ही साफ़-सफाई का पूरा ध्यान रखने की अपील की। उन्होंने कहा- यहीं हमारे हथियार हैं जो हमें कोरोना से बचा सकते हैं। हमें एक नागरिक के नाते इसमें जरा भी कोताही ना बरतनी है और न किसी को बरतने देनी है। उन्होंने कहा कि देशवासियों को जहां एक तरफ कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई को पूरी सजगता और सतर्कता के साथ लड़ना है तो वहीं दूसरी ओर कठोर मेहनत से अपने कामकाज में गति लानी है और उसको भी नई ऊंचाई पर ले जाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares