कोरोना से मिला आत्मनिर्भरता का मंत्र: मोदी

नई दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोरोना वायरस के संकट ने आत्मनिर्भर होने का मंत्र दिया है। उन्होंने कोरोना वायरस संकट से निपटने में ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की भूमिका की तारीफ करते हुए शुक्रवार को कहा कि कोरोना संकट का सबसे बड़ा संदेश और सबक यह है कि हमें आत्मनिर्भर बनना ही पड़ेगा। प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के मौके पर शुक्रवार को ग्राम पंचायतों के सरपंचों और अध्यक्षों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया।

इस दौरान उन्होंने कहा- कोरोना महामारी ने हमारे लिए अनेक मुसीबतें पैदा की हैं, जिनकी हमने कभी कल्पना तक नहीं की थी। लेकिन इससे भी बड़ी बात ये है कि इस महामारी ने हमें नई शिक्षा और संदेश भी दिया है। उन्होंने कहा- कोरोना संकट ने अपना सबसे बड़ा संदेश हमें दिया है कि हमें आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा- अब यह देखना बहुत जरूरी हो गया है कि गांव अपनी मूलभूत आवश्यकताओं के लिए कैसे आत्मनिर्भर बनें, जिला अपने स्तर पर, राज्य अपने स्तर पर, और इसी तरह पूरा देश कैसे आत्मनिर्भर बने अब ये बहुत आवश्यक हो गया है। मोदी ने कहा- कोरोना ने हम सभी के काम करने के तरीके को बहुत बदल दिया है। उन्होंने गांव के लोगों के शारीरिक दूरी बना कर रखने की सोच की तारीफ की।

उन्होंने कहा कि इस संकट में गांव देहात से प्ररेणादायी बातें सामने आई हैं। उन्होंने कहा- आप सभी ने दुनिया को मंत्र दिया है, दो गज दूरी का, या कहें दो गज देह की दूरी का। इस मंत्र के पालन पर गांवों में बहुत ध्यान दिया जा रहा है। मोदी ने कहा कि इतना बड़ा संकट आया, इतनी बड़ी वैश्विक महामारी आई, लेकिन इन दो-तीन महीनों में हमने ये भी देखा है भारत का नागरिक, सीमित संसाधनों के बीच, अनेक कठिनाइयों के सामने झुकने के बजाय उनसे टकरा रहा है। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर एकीकृत ई-ग्रामस्वराज पोर्टल और मोबाइल एप के साथ ही स्‍वामित्‍व योजना भी शुरू की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares