nayaindia Corona Update News: 86 हजार संक्रमित, 471 मौतें - Naya India
kishori-yojna
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

Corona Update News: 86 हजार संक्रमित, 471 मौतें

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या लगातार तीसरे दिन 80 हजार से ऊपर रही। शनिवार को देर रात तक देश भर में 86 हजार से ज्यादा संक्रमित मिले थे और 471 लोगों की मौत हुई थी। महाराष्ट्र में शनिवार को 24 घंटे में 50 हजार के करीब नए संक्रमित मिले और 277 लोगों की मौत हुई। देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में एक्टिव केसेज की संख्या चार लाख का आंकड़ा पार कर गई है, जबकि देश में एक्टिव केसेज की संख्या छह लाख 82 हजार से ज्यादा हो गई है। पूरे देश में संक्रमितों की संख्या सवा करोड़ के करीब पहुंच गई है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लगातार दूसरे दिन साढ़े तीन हजार से ज्यादा नए केसेज मिले।

शनिवार को देर रात तक पूरे देश में 86,184 नए केसेज मिले थे। कई राज्यों के आंकड़े देर रात तक अपडेट नहीं हुए थी। उनके आंकड़े आने के बाद यह संख्या और बढ़ सकती है। इसके साथ ही देश भर में वायरस से संक्रमित होने वालों की संख्या एक करोड़ 24 लाख 77 हजार से ऊपर पहुंच गई। देश में एक्टिव केसेज की संख्या छह लाख 82 हजार से ज्यादा हो गई है। शनिवार को चार राज्यों- कर्नाटक, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में तीन हजार से ज्यादा संक्रमित मिले।

देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में शनिवार को संक्रमितों की संख्या का नया रिकार्ड बना। राज्य में 49,457 नए संक्रमित मिले, जबकि 37,821 मरीज इलाज से ठीक हुए। इस तरह राज्य में एक दिन में 12 हजार के करीब एक्टिव केस बढ़े, जिसके बाद एक्टिव केसेज की संख्या चार लाख एक हजार से ज्यादा हो गई। राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 29 लाख 53 हजार से ज्यादा हो गई है। शनिवार को राज्य में 277 लोगों की मौत हुई। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शनिवार को लगातार दूसरे दिन संक्रमितों की संख्या साढ़े तीन हजार से ऊपर रही। राज्य में 24 घंटे में 3,567 नए केसेज मिले, जबकि इलाज से 2,904 लोग ठीक हुए और 10 लोगों की मौत हुई। राज्य में एक्टिव केसेज की संख्या 12,647 हो गई है।

दक्षिण के राज्यों में कोरोना के केसेज बढ़ने का सिलसिला जारी है। तमिलनाडु में शनिवार को संक्रमितों की संख्या लगातार दूसरे दिन तीन हजार से ऊपर रही। राज्य में 3,446 नए मामले आए और 1,834 लोग इलाज से ठीक हुए। केरल में 2,541 नए संक्रमित मिले, जबकि 1,660 लोग इलाज से ठीक हुए। कर्नाटक में शनिवार को 4,373 नए मरीज मिले, जबकि सिर्फ 1,961 लोग इलाज से ठीक हुए। आंध्र प्रदेश में 1,398 नए केसेज मिले और 787 लोग इलाज से ठीक हुए। शनिवार को पंजाब में संक्रमितों की संख्या लगातार दूसरे दिन तीन हजार से नीचे रही। राज्य में 2,686 नए मरीज मिले और 2,781 लोग इलाज से ठीक हुए। सबसे अधिक मृत्यु दर वाले राज्य पंजाब में शनिवार को 49 लोगों की मौत हुई। शनिवार को गुजरात में 2,815 नए मामले आए और 2,063 लोग इलाज से ठीक हुए।

महीने के मध्य तक आएगा पीक

कोरोना वायरस की दूसरी लहर का पीक इस महीने के मध्य तक आ सकता है। देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच आईआईटी कानपुर ने एक अध्ययन के बाद बताया है कि अप्रैल के मध्य तक कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या पीक पर पहुंच जाएगी और उसके बाद इसमें गिरावट आने लगेगी। इस अध्ययन के मुताबिक मई के अंत तक संक्रमितों की संख्या काफी कम हो जाएगी। ध्यान रहे पहली लहर का पीक सितंबर के आखिर में आया था।

आईआईटी कानपुर के अध्ययन के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर से सर्वाधिक प्रभावित पंजाब और महाराष्ट्र में सबसे पहले पीक आएगा। आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने एक गणितीय मॉडल से किए गए अध्ययन के जरिए यह संभावना जताई है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, मई के आखिर तक संक्रमण के मामलों में काफी गिरावट दिख सकती है। पहली लहर के दौरान इसी मॉडल से अनुमान लगाया गया था कि संक्रमण के मामले अगस्त 2020 में बढ़ेंगे और सितंबर तक चरम पर होंगे। फिर फरवरी 2021 में कम हो जाएंगे। यह सही साबित हुआ था।

वैज्ञानिक मनिंद्र अग्रवाल के मुताबिक, पंजाब पहला राज्य होगा, जहां कुछ दिन में मामले चरम पर पहुंचेंगे। इसके बाद महाराष्ट्र में पीक आ सकता है। वैक्सीनेशन शुरू हुए करीब ढाई महीने बीतने के बावजूद कई राज्यों में कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, गुजरात और दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में नए मामलों में तेजी आई है। इन राज्यों में संक्रमण की शृंखला तोड़ने के लिए लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू जैसे उपाय अपनाए जा रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 13 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मजबूरी में मध्य वर्ग की चिंता
मजबूरी में मध्य वर्ग की चिंता