Corona Update : 22 राज्यों में हालात काबू में, अगले महीने संभव तीसरी लहर - Naya India
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

Corona Update : 22 राज्यों में हालात काबू में, अगले महीने संभव तीसरी लहर

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर पर देश के ज्यादातर राज्यों में काबू पा लिया गया है। देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पांच सौ से कम केसेज आए हैं। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में शनिवार को सिर्फ 257 नए केसेज आए। राज्य में एक्टिव केसेज की संख्या घट कर पांच हजार से नीचे आ गई है। देश में अब सिर्फ 10 राज्य ही ऐसे हैं, जहां एक्टिव मरीजों की संख्या 10 हजार से ज्यादा है। इनमें से पांच राज्य- तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना दक्षिण भारत के हैं। इनके अलावा पूर्वोत्तर के पश्चिम बंगाल, ओड़िशा और असम में एक्टिव केसेज की संख्या 10 हजार से ज्यादा है और महाराष्ट्र व छत्तीसगढ़ में भी 10 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं। जम्मू कश्मीर और मणिपुर में एक्टिव केसेज की संख्या नौ हजार से ऊपर है।

देश भर में एक्टिव मरीजों की संख्या घट कर सात लाख पहुंच गई है। अब देश में सिर्फ तीन ही राज्य हैं, जहां एक लाख से ज्यादा एक्टिव मरीज हैं। इनमें भी एक या दो दिन में केरल में एक्टिव केसेज की संख्या एक लाख से नीचे पहुंच जाएगी। उसके बाद महाराष्ट्र और कर्नाटक ही बचेंगे, जहां एक्टिव केस की संख्या एक लाख से ऊपर होगी। उत्तर और मध्य भारत के ज्यादातर राज्यों में अब हर दिन पांच सौ से कम केसेज आ रहे हैं और मरने वालों की संख्या में भी अच्छी खासी कमी आ गई है।

शनिवार को खबर लिखे जाने तक देश में 40 हजार के करीब केसेज आए थे और साढ़े नौ सौ के करीब लोगों की मौत हुई थी। देर रात तक केरल, गुजरात, छत्तीसगढ़, हरियाणा, पंजाब, झारखंड और असम सहित कुछ राज्यों के आंकड़े अपडेट नहीं हुए थे। इनके आंकड़े आने के बाद संक्रमितों की संख्या में और इजाफा होगा। देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में शनिवार को 8,912 नए मरीज मिले और 257 लोगों की मौत हुई। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 24 घंटे में 135 संक्रमित मिले और सात लोगों की मौत हुई। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में शनिवार को सिर्फ 257 नए संक्रमित मिले और 51 लोगों की मौत हुई।

ये भी पढ़ें:- देश के सबसे बड़े बैंक में अब ATM से पैसे निकालना हुआ महंगा, अगर आपका खाता है तो जरूर पढ़ें यह नियम

राजस्थान में शनिवार को 193 नए मामले आए और सात लोगों की मौत हुई। पश्चिम बंगाल में 2,486 नए केसेज मिले और 55 लोगों की मौत हुई। ओड़िशा में 3,427 नए संक्रमित मिले और 42 लोगों की मौत हुई। मध्य प्रदेश में 110 नए मरीज मिले और 30 लोगों की संक्रमण से मौत हुई। तमिलनाडु में शनिवार को 8,183 मामले आए और 180 लोगों की मौत हुई। कर्नाटक में 5,815 नए संक्रमित मिले और 165 लोगों की मौत हुई। केरल में 11,361 संक्रमित मिले और 90 लोगों की मौत हुई। आंध्र प्रदेश में 5,674 नए संक्रमित मिले और 45 लोगों की मौत हुई।

अगले महीने संभव तीसरी लहर?

नई दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्स दिल्ली के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने पूरे देश को डरा दिया है। उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर डेढ़ से दो महीने में ही आ सकती है। हालांकि उन्होंने इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं बताया है। ऐसे ही सरकारी विशेषज्ञों ने पिछले महीने देश को डराया था कि तीसरी लहर में बच्चों में ज्यादा संक्रमण फैलेगा, उसके बाद से सरकार सफाई दे रही है कि इस बात का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि बच्चों में कोरोना ज्यादा फैलेगा।

बहरहाल, हर दिन टेलीविजन पर आकर कोई न कोई बयान देने वाले डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि यदि कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं किया गया और बाजारों या टूरिस्ट स्पॉट पर लगने वाली भीड़ को नहीं रोका गया तो कोरोना की तीसरी लहर सिर्फ छह से आठ हफ्तों में पूरे देश पर अटैक कर सकती है। डॉ. गुलेरिया ने बच्चों के बारे में की गई पहले की भविष्यवाणी को खारिज करते हुए यह भी कहा कि अभी तक की रिसर्च में ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बड़ों से ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगी।

ये भी पढ़ें:- बत्ती गुल मीटर चालु : बिजली विभाग द्वारा भेजे गए 90 करोड़ का बिल देख राइस फैक्ट्री को लगा 440 वोल्ट का झटका

गौरतलब है कि भारत के महामारी विशेषज्ञों ने पहले सितंबर-अक्टूबर तक कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जताई थी। लेकिन डॉक्टर गुलेरिया ने जुलाई-अगस्त में ही तीसरी लहर आने की भविष्यवाणी कर दी है। इससे पहले देश में अप्रैल और मई महीने के बीच कोरोना की दूसरी लहर भारत में पीक पर पहुंची थी। दूसरी लहर कोरोना के डेल्टा वैरिएंट की वजह से आई और इसी वजह से करीब दो लाख लोगों की मौत हुई।

पाबंदियों से छूट का सिलसिला जारी

देश में कोरोना वायरस के कम होते मामलों के बीच पाबंदियों से छूट मिलने का सिलसिला जारी है। दक्षिण के राज्यों में अभी सबसे ज्यादा केसेज आ रहे हैं, वहां भी अब छूट मिलने लगी है। कोरोना के मामले में कमी को देखते हुए तेलंगाना कैबिनेट ने लॉकडाउन को पूरी तरह से हटाने का फैसला किया है। कर्नाटक सरकार ने लोगों को आंशिक राहत दी है। इससे पहले उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली सहित कई राज्यों ने लॉकडाउन को धीरे-धीरे हटाने का फैसला किया है।

इस बीच केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को 3टी प्लस वी फॉर्मूला अपनाने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत कहा गया है कि टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन फॉर्मूले का विशेष ध्यान रखें। गौरतलब है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक दल ने अक्टूबर तक देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जताई है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए नए निर्देश जारी किए हैं और राज्यों को जरा सी भी ढील नहीं देने को कहा गया है।

ये भी पढ़ें:- अजब-गजब : 4 साल से 2 लड़कियों से कर रहा था डेट, भेद खुला तो एक साथ दोनों से कर ली शादी

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *