Cyclone Yaas Updates: देश के पूर्वी हिस्से में तूफान यास का खतरा - Naya India
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

Cyclone Yaas Updates: देश के पूर्वी हिस्से में तूफान यास का खतरा

नई दिल्ली। देश के पश्चिमी और दक्षिणी हिस्से में चक्रवाती तूफान ताउते के तबाही मचाने के बाद अब पूर्वी हिस्से में एक दूसरे चक्रवाती तूफान यास का खतरा मंडरा रहा है। ओड़िशा और पश्चिम बंगाल सहित पांच राज्यों में इस तूफान का खतरा है और सभी राज्यों को अलर्ट कर दिया गया है। इस बीच रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस तूफान से निपटने की तैयारियों के लिए कई विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की।

इस बीच मौसम विभाग का कहना है कि मध्य पूर्वी बंगाल की खाड़ी में रविवार को कम दबाव का क्षेत्र बना है। ये ओड़िशा के बालासोर और बंगाल के दीघा से सात सौ किलोमीटर की दूरी पर है। माना जा रहा है कि 24 मई तक यह चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। 25 मई को बंगाल के मेदिनीपुर, 24 परगना और हुगली में हल्की बारिश हो सकती है। कुछ इलाकों में भारी बारिश की भी संभावना है। इसके बाद 26 मई को नादिया, बर्धमान, बांकुड़ा, पुरुलिया और बीरभूम में भारी बारिश हो सकती है।

यास तूफान उत्तरी ओड़िशा के पारादीप और पश्चिम बंगाल के सागर आइलैंड के बीच से गुजरेगा। यहां से गुजरते वक्त इसकी गति 185 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है। यह पिछले तूफान ताउते और अम्फान के जैसा ही होगा। यह 26 मई को ओड़िशा और पश्चिम बंगाल के तटों से टकरा सकता है। इसे देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को राष्ट्रीय आपदा मोचन प्राधिकारण यानी एनडीएमए और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल यानी एनडीआरएफ सहित 14 विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की।

प्रधानमंत्री ने तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि राज्यों के साथ बेहतर तालमेल के साथ काम किया जाए और ज्यादा जोखिम वाले इलाकों से लोगों को सही-सलामत निकालने के इंतजाम किए जाएं। उन्होंने कहा कि तूफान की वजह से बिजली की आपूर्ति और संचार सेवा बाधित होने की समय सीमा कैसे कम से कम की जाए, इस पर काम किया जाए। इसे जल्दी से जल्दी बहाल करने की व्यवस्था पर काम किया जाए। प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से राज्य सरकारों के साथ उचित तालमेल और प्लानिंग सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि अस्पतालों में कोविड के इलाज और टीकाकरण में किसी भी तरह की रुकावट न आए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *