तीस हजारी कोर्ट झड़प की होगी न्यायिक जांच के आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली हाई कोर्ट ने तीस हजारी अदालत में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प मामले की सेवानिवृत्त न्यायाधीश से जांच कराने का आदेश दिया। अदालत ने दो एएसआई को निलंबित कर दिये है।  साथ ही जांच चलने तक एडिशनल डीसीपी हरविंदर सिंह और स्पेशल सीपी सिंह संजय के ट्रांसफर का भी आदेश हुआ है।वहीं, सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने हाई कोर्ट को बताया कि झड़प की घटना की जांच के लिये एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है। दिल्ली पुलिस की ओर से पेश हुए वकील राहुल मेहरा ने मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल एवं न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ को बताया कि झड़प में कथित रूप से शामिल एक सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) को निलंबित किया गया है और एक अन्य का तबादला कर दिया गया है।

घटना के संबंध में मीडिया में आई खबरों पर स्वत: संज्ञान लेने के बाद मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल एवं न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ मामले में सुनवाई कर रही है। मामले में अपराध शाखा का विशेष जांच दल जांच करेगा।पुलिस ने अदालत को सूचित किया कि झड़प के संबंध में हत्या के प्रयास के आरोप समेत संबंधित धाराओं के तहत चार प्राथमिकी दर्ज की गई है। अधिकारियों और चश्मदीदों के अनुसार शनिवार दोपहर को तीस हजारी अदालत परिसर में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प में 20 पुलिसकर्मी तथा कई वकील घायल हो गये जबकि 17 वाहनों की तोड़फोड़ की गई। पुलिस ने कहा कि घायल 20 पुलिसकर्मियों में दो थाना प्रभारी और एक अतिरिक्त आयुक्त शामिल हैं। पुलिस ने दावा किया कि घटना में आठ वकील घायल हुए हैं।

महापंजीयक (आरजी) दिनेश कुमार शर्मा ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश और उच्च न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीशों ने सुबह बंद कमरे में बैठक की। उन्होंने बताया कि बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और दिल्ली सरकार के अतिरिक्त मुख्य सचिव भी शामिल थे। बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने हाई कोर्ट को पत्र लिखकर मामले में पुलिस अधिकारियों के खिलाफ धारा 307 (हत्या का प्रयास) एवं शस्त्र अधिनियम के संबंधित प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज करने की खातिर दिल्ली के उपराज्यपाल एवं अन्य अधिकारियों से इस संबंध में अनुमति लेने का अनुरोध किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares