दिशा को दुनिया, विपक्ष का समर्थन - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

दिशा को दुनिया, विपक्ष का समर्थन

नई दिल्ली। ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट माममे में गिरफ्तार पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को देश के पूरे विपक्ष का समर्थन मिला है। कांग्रेस सहित लगभग सभी विपक्षी पार्टियों ने दिशा की गिरफ्तारी का विरोध किया है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विट करके कहा है कि ऐसी गिरफ्तारियों से देश नहीं डरेगा तो उनकी पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने गिरफ्तारी के विरोध में ट्विट किया है। कांग्रेस के अलावा समाजवादी पार्टी, शिव सेना, तृणमूल कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों ने भी दिशा की गिरफ्तारी का विरोध किया है।

राहुल गांधी ने सोमवार को सरकार पर निशाना साधा और कहा कि भारत खामोश नहीं होने वाला है। उन्होंने दिशा की गिरफ्तारी से जुड़ी खबर साझा करते हुए ट्विट किया- बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे, बोल कि सच ज़िंदा है अब तक! वो डरे हैं, देश नहीं! राहुल ने कहा- भारत खामोश नहीं होने वाला है। पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इस मामले को लेकर ट्विटर पर लिखा- डरते हैं बंदूकों वाले एक निहत्थी लड़की से, फैले हैं हिम्मत के उजाले एक निहत्थी लड़की से।

उधर कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी दिशा रवि की गिरफ्तारी की सोमवार को निंदा की और कहा कि भाजपा सरकार को सबसे पहले अपने आईटी प्रकोष्ठ के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा- सरकारी नीतियों का विरोध करने वाले किसी को भी गिरफ्तार करना स्वीकार्य नहीं है। भाजपा को सबसे पहले अपने आईटी प्रकोष्ठ के सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए जो झूठी सूचनाएं फैलाते हैं। दो तरह के नियम क्यों?

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि भारत बेतुकी चीजों का मंच बनता जा रहा है। ये बहुत दुख की बात है कि दिल्ली पुलिस तानाशाहों के हाथ की कठपुतली बन गई है। पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने दिशा की गिरफ्तारी पर कहा- ये घटिया हरकत है। अनचाहा उत्पीड़न है और धमकाने वाला काम है। सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि मोदी राज ये सोचता है कि किसानों की पोती को गिरफ्तार करने से किसानों का संघर्ष कमजोर पड़ जाएगा। दरअसल, ये गिरफ्तारी देश के युवाओं को जगाएगी और लोकतंत्र को मजबूत करेगी।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा- सवाल ये है कि उन लोगों को कब गिरफ्तार किया जाएगा, जो अपने शब्दों की टूलकिट से सुबह-शाम देश और समाज की एकता को तोड़ रहे हैं। जो नफरत और बंटवारे को बढ़ावा दे रहे हैं। किसान नेता दर्शनपाल ने कहा दिशा का समर्थन करते हुए कहा- संयुक्त किसान मोर्चा युवा कार्यकर्ता की गिरफ्तारी का विरोध करता है, जिन्होंने किसानों का समर्थन किया। हमारी मांग है कि उन्हें जल्दी से जल्दी और बिना शर्त रिहा किया जाए।

भाजपा की आईटी सेल फैलाती है झूठ

देश की दो बड़ी विपक्षी पार्टियों तृणमूल कांग्रेस और शिव सेना ने भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल पर निशाना साधा है। दोनों पार्टियों ने अलग अलग कारणों से भाजपा की आईटी सेल को निशाना बनाया है। ममता बनर्जी ने पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी के बहाने आईटी सेल पर हमला किया तो शिव सेना ने मशहूर हस्तियों के ट्विट को लेकर निशाना साधा।

ममता बनर्जी ने सोमवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि सरकारी नीतियों का विरोध करने वाले किसी शख्स की गिरफ्तारी करना क्या उचित है? उन्होंने कहा- बीजेपी को चाहिए कि वह सबसे पहले अपनी आईटी सेल के खिलाफ शिकंजा कसे जो झूठ फैलाने के काम में जुटी है। ये दोहरा मानदंड क्यों अपनाया जा रहा है? ममता ने आगे कहा- बीजेपी की आईटी सेल के सदस्य तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता होने का ढोंग कर लोगों को फोन कर रहे हैं और उनकी पार्टी की छवि खराब कर रहे हैं। इस पर उन्होंने कोलकाता पुलिस से ध्यान देने को कहा है।

उधर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके भाजपा की आईटी सेल पर निशाना साधा। उन्होंने कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक होने के बाद अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने खेल और फिल्म जगह की मशहूर हस्तियों के ट्विट की जांच कराए जाने के मामले में सफाई दी। उन्होंने कहा- सरकार ने कभी नहीं कहा कि लता मंगेशकर या सचिन तेंदुलकर की जांच होगी, बल्कि भाजपा की आईटी सेल की जांच होगी। गौरतलब है कि दुनिया की कई मशहूर हस्तियों के किसानों के समर्थन में ट्विट करने के बाद भारत में खेल व फिल्म जगत की कई हस्तियों ने उनका विरोध करते हुए ट्विट किया था। देशमुख ने दावा किया कि शुरुआती जांच से ‘भाजपा की आईटी सेल के प्रमुख’ और ‘12 इन्फ्लुएंसर्स’ पर उंगली उठी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कोरोना से राहत के बीच UP सरकार ने हटाया Night Curfew, लेकिन करना होगा प्रोटोकाॅल का पालन
कोरोना से राहत के बीच UP सरकार ने हटाया Night Curfew, लेकिन करना होगा प्रोटोकाॅल का पालन