समाचार मुख्य

डॉक्टर फॉची ने बताई भारत की कमियां

वाशिंगटन। संक्रामक रोगों के अमेरिकी विशेषज्ञ और अमेरिकी राष्ट्रपति के चिकित्सा सलाहकार डॉक्टर एंथनी फॉची ने कोरोना वायरस की महामारी से मुकाबले में भारत की कमियों के बारे में वहां की संसद को बताया। उन्होंने अमेरिकी सांसदों से कहा कि भारत ने गलत धारणा बनाई कि उसके यहां कोविज-19 की वैश्विक महामारी का प्रकोप समाप्त हो गया है और समय से पहले देश को खोल दिया, जिससे वह ऐसे गंभीर संकट में फंस गया है।

डॉक्टर फॉची ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान सीनेट की स्वास्थ्य, शिक्षा, श्रम व पेंशन समिति से कहा- भारत अभी जिस गंभीर संकट में है उसकी वजह यह है कि वहां वास्तविक इजाफा था और उन्होंने गलत धारणा बनाई कि वहां यह समाप्त हो गया है। और हुआ क्या, उन्होंने समय से पहले सब खोल दिया और अब ऐसा चरम वहां देखने को मिल रहा है, जिससे हम सब जानते हैं कि वह कितना विनाशकारी है।

सीनेट में सुनवाई की अध्यक्षता कर रही, सीनेटर पैटी मुर्रे ने कहा कि भारत में हाहाकार मचा रही कोविड-19 की लहर इस बात की दर्दनाक याद दिलाती है कि अमेरिकी यहां तब तक वैश्विक महामारी को समाप्त नहीं कर सकते जब तक कि यह सब जगह समाप्त न हो जाए। उन्होंने कहा- मुझे खुशी है कि बाइडन प्रशासन विश्व स्वास्थ्य संगठन में फिर से शामिल होकर वैश्विक लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है और चार जुलाई तक छह करोड़ एस्ट्राजेनेका टीके दूसरे देशों को देने की प्रतिबद्धता जताकर वैश्विक टीकाकरण प्रयासों का वित्तपोषण कर रहा है।

अमेरिका भारत के प्रकोप से क्या सीख सकता है इस पर डॉक्टर एंथनी फॉची ने कहा- सबसे महत्त्वपूर्ण चीज यह है कि स्थिति को कभी कम नहीं आंके। उन्होंने कहा- दूसरी चीज जन स्वास्थ्य के संबंध में तैयारी है, तैयारी जो भविष्य की महामारियों के लिए हमें करनी है कि हमें स्थानीय जन स्वास्थ्य अवसंरचनाओं के निर्माण को जारी रखने की जरूरत है।

 

Latest News

बड़े खेला की तैयारी :  गैर कांग्रेस विपक्ष के नेताओं को सबंधित करेंगे शरद पवार
मुंबई | देश की राजनीति में बहुत कुछ बदलने वाला है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार अब बहुत बड़ा खेला…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आज खास | ताजा पोस्ट | देश | राजनीति

International Yoga Day : कांग्रेसी नेता ने कहा-ॐ के उच्चारण से ताकतवर और अल्लाह कहने से कमजोर नहीं होता योग, तो BJP सांसद ने ये दिया मजेदार जवाब

नई दिल्ली | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर देश के साथ ही विदेशों में भी तरह तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है. विश्व भर में योग गुरु का दर्जा प्राप्त कर चुके भारत में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस धूमधाम से मनाया जाता है. अभी भी कुछ ऐसी राजनीतिक शख्सियत हैं जो योग को धर्म के साथ जोड़ना चाहते हैं या फिर यूं कहें कि योग के बहाने धार्मिक उन्माद फैलाना चाहते हैं. कांग्रेस के बड़े नेता और सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने फिर योग पर एक विवादित बयान दे दिया है. कांग्रेसी नेता द्वारा किए गए इस ट्वीट का जवाब भाजपा के दिग्गज नेता कैलाश विजयवर्गीय ने दिया है. तो आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला…

ॐ के उच्चारण करना जरूरी नहीं शक्ति नहीं होता है कम

अभिषेक मनु सिंघवी ने स्वीट करते हुए कहा कि योग करते समय ॐ का उच्चारण करना कोई खास जरूरी नहीं उन्होंने कहा कि ॐ का जाप योग के समय करने से कोई विशेष शक्ति नहीं मिल जाती. इसके आगे अभिषेक लिखते हैं कि यदि कोई अल्लाह बोलकर योग करें तो योग कमजोर भी नहीं हो जाता. एक और ट्वीट में उन्होंने अपने दिए गए बयान को समझाते हुए कहा कि ॐ शब्द के उच्चारण से ना तो योग शक्तिशाली हो जाएगा और ना ही अल्लाह कहने से योग की शक्ति कम होगी.

इसे भी पढ़ें- इंडियन आइडल12 से सवाई भट्ट हुए बाहर तो फूटा नव्या नवेली का गुस्सा, लोग बोले-शनमुखा को बचाने के लिए हो रहा ड्रामा

अपना ही अंदाज में कैलाश विजयवर्गीय ने दिया जवाब

अभिषेक मनु सिंघवी के किए गए ट्वीट पर भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने अपने ही अंदाज में जवाब दिया. विजयवर्गीय ने कहा कि ‘छुटभैया’ नेता के ट्वीट से योग की महानता कम नहीं होती है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि योग अपने आप में महान है इसे किसी धर्म से जोड़ कर देखने से बचना चाहिए. विजयवर्गीय ने कहा कि जो इसकी मूल बातें हैं उसे बदलने की कोशिश कभी नहीं करनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें- Mirzapur : रात को पांचों भाई बहन खुशी-खुशी खाकर सोये, सुबह उठे तो हो चुके थे अनाथ

Latest News

aaबड़े खेला की तैयारी :  गैर कांग्रेस विपक्ष के नेताओं को सबंधित करेंगे शरद पवार
मुंबई | देश की राजनीति में बहुत कुछ बदलने वाला है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार अब बहुत बड़ा खेला…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *