नासिक से मुंबई की किसान यात्रा

मुंबई। केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमा पर 60 दिन से चल रहे आंदोलन में अब महाराष्ट्र के किसान भी शामिल हो गए हैं। महाराष्ट्र के नासिक से हजारों किसानों का जत्था पैदल मार्च करता हुआ राजधानी मुंबई पहुंचा है। राज्य के 21 जिलों के किसान 180 किलोमीटर पैदल चल रह मुंबई पहुंचे हैं। सोमवार को मुंबई में किसानों की एक सभा होगी, जिसमें एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भी शामिल होने की संभावना है।

रविवार को किसानों के नासिक से मुंबई मार्च की वीडियो एक न्यूज एजेंसी ने जारी की, जिसमें हजारों की संख्या में किसानों के हुजूम दिख रहा है। 21 जिलों के किसान शनिवार को नासिक में इकट्ठा हुए और वहां से मुंबई के लिए मार्च शुरू किया। महाराष्ट्र के किसान केंद्रीय कानूनों का विरोध करने के साथ साथ इसके विरोध में दिल्ली की सीमा पर 60 दिन से आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में यह रैली निकाली है।

महाराष्ट्र में 180 किलोमीटर की यह रैली ऑल इंडिया किसान सभा के बैनर तले निकाली गई है। रविवार को देर शाम तक रैली मुंबई पहुंच गई। इससे पहले दिल्ली में सीमा पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के बारे में बात करते हुए पवार ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी थी कि अगर वे किसानों की समस्या सुलझाने में कामयाब नहीं हुए, तो गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं। उन्होंने कहा था कि सरकार को किसानों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश में भी किसानों का प्रदर्शन

तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमा पर चल रहे आंदोलन के बीच अब कई राज्यों में किसान आंदोलन करने लगे हैं। शनिवार को उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव क्षेत्र वाराणसी में किसानों ने बड़ा आंदोलन किया। वाराणसी शहर में सरदार सेना के साथ किसानों ने जगह-जगह प्रदर्शन किए। केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन के दौरान के दौरान किसानों ने प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय तक जाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस  ने उन्हें रास्ते में ही रोक दिया। इसके बाद किसान सड़क पर ही बैठ कर देर तक प्रदर्शन करते रहे।

सरदार सेना के राष्टीय अध्यक्ष आरएस पटेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय कार्यालय तक जाने से रोके जाने के विरोध में भूख हड़ताल शुरू करने का आहवान किया है। उन्होंने कहा कि यह हड़ताल तब तक चलेगी जब तक उन्हें संसदीय कार्यालय जाने नहीं दिया जाता। इस बीच सड़क पर धरना प्रदर्शन लंबा होते देख कर पुलिस ने चार बजे के बाद महिलाओं सहित काफी संख्या में किसानों को गिरफ्तार कर लिया। सरदार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष को भी गिरफ्तार कर पुलिस अपने साथ ले गई।

वाराणसी में पहले से तय कार्यक्रम के मुताबिक सरदार सेना के लोगों के पहुंचने पर ट्रॉमा सेंटर पर ही उनको रोकने का प्रयास पुलिस ने शुरू किया तो विरोध शुरू हो गया। दिल्ली की सीमा पर धरना दे किसानों के समर्थन में करीब एक हजार लोग रैली में शामिल होने जा रहे थे। पुलिस ने सभी को इन सभी को रोक दिया। प्रदर्शनकारी किसान जय संविधान जय किसान के नारे लगा रहे थे और सबने तिरंगा झंडा लिया हुआ था। उधऱ सुरक्षा कारणों से गुरुबाग स्थित प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय पर सुबह से ही भारी फोर्स तैनात की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares