कृषि के बारे में मन की बात

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर प्रसारित होने वाले मन की बात के मासिक कार्यक्रम में इस बार कृषि के बारे में बात की। उन्होंने हाल ही में संसद से पास किए गए तीनों कृषि विधेयकों की जम कर तारीफ की और कहा कि इनसे किसानों का बहुत फायदा होगा। विपक्ष इन तीनों विधेयकों का जोरदार विरोध कर रहा है। मोदी ने गांव, किसान और देश के कृषि क्षेत्र को आत्मनिर्भर भारत का आधार बताते हुए कहा कि ये जितने मजबूत होंगे, आत्मनिर्भर भारत की नींव भी उतनी ही मजबूत होगी।

मन की बात की 69वीं कड़ी में कृषि विधेयकों की तारीफ करते हुए रविवार को मोदी ने कहा कि संसद से पारित कृषि सुधार विधेयकों के पारित होने के बाद देश भर के किसानों को अब उनकी इच्छा के अनुसार, जहां ज्यादा दाम मिले वहां बेचने की आजादी मिल गई है। मोदी ने इस अवसर पर कई राज्यों के किसानों और कुछ किसान संगठनों के अनुभवों और उनकी सफल कहानियों को साझा करते हुए बताया कि कैसे उन्हें उनके उत्पादों के एपीएमसी कानून से बाहर होने का फायदा मिला और कैसे अब वे बिना बिचौलिए के सीधे बाजार में अपने उत्पादों को बेचकर मुनाफा कमा रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश भर के किसान उन्हें चिट्ठियां भेज कर और कुछ किसान संगठनों ने निजी बातचीत में उन्हें बताया कि कैसे खेती में नए-नए आयाम जुड़ रहे हैं और बदलाव आ रहा है। कोरोना वायरस संक्रमण के बीच देश में बंपर फसल उत्पादन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे कठिन दौर में भी कृषि क्षेत्र और देश के किसानों ने फिर से अपना दमखम दिखाया है। उन्होंने कहा- हमारे यहां कहा जाता है कि जो जमीन से जितना जुड़ा होता है, वह बड़े से बड़े तूफानों में भी उतना ही अधिक रहता है।

मोदी ने कहा- देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार हैं। ये मजबूत होंगे तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत होगी। मोदी ने हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात के कुछ सफल किसानों व किसान समूहों का जिक्र करते हुए कहा कि बीते कुछ समय में कृषि क्षेत्र ने खुद को अनेक पाबंदियों से आजाद किया है और अनेक मिथकों को तोड़ने का प्रयास किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares