किसानों का भारत बंद: कई जगह सड़क परिवहन एवं रेल यातायात प्रभावित, तो कई जगह मिला जुला असर

Must Read

जयपुर। केन्द्रीय नए कृषि कानूनों को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आयोजित भारत बंद का काफी असर हुआ है . आपको बता दें कि किसानों ने कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन किया . और कई रैलिया निकाली , रोड जाम किया कर प्रदर्शन किया . रेलवे के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार रेवाडी-हिसार, चरखीदादरी-मनहेरू, भिवानी-बामला रेलखण्ड के मध्य किसान आंदोलन के कारण रेल सेवाए प्रभावित हुई .
इसी तरह गाडी संख्या 04836, रेवाडी-हिसार स्पेशल रेलसेवा को रेवाडी के स्थान पर भिवानी से प्रस्थान करेगी और यह रेलसेवा रेवाडी-भिवानी स्टेशनों के मध्य आंशिक रद्द रहेगी।

गाडी संख्या 04734, श्रीगंगानगर- रेवाडी रेलसेवा श्रीगंगानगर से प्रस्थान करेगी वह रेलसेवा हिसार स्टेशन तक संचालित होगी और हिसार-रेवाडी स्टेशन के मध्य आंशिक रद्द रहेगी। गाडी संख्या 04733, रेवाडी-श्रीगंगानगर स्पेशल रेलसेवा रेवाडी के स्थान पर हिसार से प्रस्थान करेगी और यह रेवाडी-हिसार स्टेशनों के मध्य आंशिक रद्द रहेगी।

झारखंड में वाहनों का परिचालन प्रभावित

केंद्र सरकार के 3 नए कृषि कानून के खिलाफ किसानों के आज भारत बंद के मद्देनजर झारखंड में जहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं वहीं वाहनों का परिचालन प्रभावित रहा। बता दें कि भारत बंद के आह्वान के कारण आज राज्य भर में सड़कों पर वाहनों का परिचालन प्रभावित हुआ है, लेकिन रांची में बंद का कोई खास असर नहीं देखा जा रहा है। वहीं, माओवादियों द्वारा भारत बंद को समर्थन दिये जाने के कारण नक्सल प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों में इसका मिलाजुला असर देखा जा रहा है। माओवादियों के बंद में शामिल होने से झारखंड पुलिस द्वारा विशेष सतर्कता बरती जा रही है। भारत बंद के कारण बिहार जाने वाली लंबी दूरी के वाहनों का परिचालन बंद है। हालांकि राष्ट्रीय राजमार्ग और अन्य प्रमुख सड़कों पर मालवाहक और निजी वाहनों का परिचालन सामान्य है।

इसे भी पढ़ें – Rajasthan: नोटों की होली जलाने वाले तहसीलदार के लिए पूर्व मंत्री बोले भरतसिंह यह रेयर आफ रेयरेस्ट मामला, बर्खास्त कर दो

राजस्थान में भारत बंद का मिला जुला असर

राजस्थान में भी भारत बंद का मिला जुला असर देखने को मिल रहा है कई जिलों में बाजार और रोड जाम है केन्द्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर आयाेजित भारत बंद असर देखने को मिला है भारत बंद का असर श्रीगंगानगर एवं बीकानेर जिले में ज्यादा नजर आ रहा है और श्रीगंगानगर जिले के रायसिंहनगर कस्बे के बाजार बंद है। इसके अलावा किसानों ने कई मार्गो पर चक्का जाम कर रखा है। किसान नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था के लिए मौके पुलिस बल तैनात किया गया है। बीकानेर में भी बंद का काफी असर देखने को मिल रहा है। किसान मोर्चा के लोग नारेबाजी कर रहे हैं और दुकानें बदं करा रहे हैं। मुख्य बाजार की अधिकतर दुकानें बंद हैं। बंद को लेकर प्रदर्शन कर रहे है आपको बता दें कि भारत बंद के समर्थन में 95 प्रतिशत दुकाने अपनी मर्जी से बंद हैं।

उन्होंने कहा कि जब तक नये कृषि कानून वापस नहीं हाेंगे, उनका आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान इंटक नेता एवं भीम सेना के लोग भी प्रदर्शन में शामिल थे। राजधानी जयपुर में बंद का मामूली असर दिख रहा हैं। जयपुर शहर में दुकानें खुल रही हैं और लगभग रोजाना कि तरह स्थिति नजर आ रही हैं। शहर में किसान मोर्चा के लोग भी बंद का समर्थन एवं प्रदर्शन करते नजर नहीं आ रहे। शहर में अधिकतर बाजार सुबह दस बजे के बाद ही खुलते हैं।

इसे भी पढ़ें- दिल्ली के बिल पर कृषि बिल की कहानी!

कोटा में शहर में भी बंद का असर बहुत कम नजर आ रहा है। हालांकि कई किसान नेताओं ने फल सब्जी मंडी पहुंचकर मंडी को बंद करा दिया हैं। मंडी के बाहर किसानों ने प्रदर्शन किया और किसान नेताओं ने अपना संबोधन भी दिया। बंद का कोटा में बस, रेल तथा अन्य आवागमन के साधन पर कोई असर नजर नहीं आ रहा है। प्रदेश के अन्य जगहों पर भी बंद का मिलाजुला असर नजर आ रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के ट्वीट को दोहराते हुए कहा कि भारत का इतिहास गवाह है कि सत्याग्रह से ही अत्याचार, अन्याय एवं अहंकार का अंत होता है। आंदोलन देश हित में हो और शांतिपूर्ण हो।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

Delhi में भयंकर आग से Rohingya शरणार्थियों की 53 झोपड़ियां जलकर खाक, जान बचाने इधर-उधर भागे लोग

नई दिल्ली | दिल्ली में आग (Fire in Delhi) लगने की बड़ी घटना सामने आई है। दक्षिणपूर्व दिल्ली के...

More Articles Like This