पाकिस्तान को चार महीने की मोहलत

नई दिल्ली। आतंकवादी संगठनों को होने वाली फंडिंग रोकने के लिए पाकिस्तान को चार महीने की और मोहलत मिल गई है। पेरिस में स्थित संस्था फाइनेंशिएल एक्शन टास्क फोर्स, एफएटीएफ ने पाकिस्तान को फरवरी 2020 तक एक और समय सीमा दी है। खबरों के मुताबिक पाकिस्तान से कहा गया है कि उसको चार महीने के समय दिया गया है अगर इस बार वह नाकाम रहा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की होगी। इस बार फेल रहने पर पाकिस्तान को डार्क ग्रे सूची में शामिल किया जा सकता है। फिलहाल पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखा गया है।

इसमें उन देशों को रखा गया है, जिनके कानून धन शोधन और आतंकी फंडिंग रोकने में कमजोर माने जाते हैं। अब कई बार चेतावनी के बाद भी पेरिस स्थिति इस संस्था एफएटीएफ की ओर से दिए गए सुझावों पर पाकिस्तान ने अमल नहीं किया है अब इस मामले में पाकिस्तान पर चार महीने बाद निर्णायक फैसला किया जाएगा।

एफएटीएफ ने पाकिस्तान से साफ कहा है कि फरवरी 2020 तक वह इस एक्शन प्लान को पूरा करे। नहीं तो इसके बाद कार्रवाई की जाएगी, जिसमें सदस्य देशों से कहा जाएगा वह उसके के साथ व्यापारिक संबंधों और लेनदेन का विशेष ध्यान रखें। एफएटीएफ एक अंतर-सरकारी संस्था है, जिसे 1989 में बनाया गया था। इसका काम धन शोधन, आतंकी फंडिंग और इससे जुड़े तमाम ऐसे मामले जो अंतरराष्ट्रीय वित्तीय व्यवस्था के लिए खतरा बन सकते हैं, उन पर लगाम लगाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares