चीन के साथ तनाव जारी

नई दिल्ली। भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच हुई वार्ता के बावजूद सीमा पर तनाव कम नहीं हो रहा है। वार्ता के जरिए विवाद सुलझाने पर सहमति बनने के बावजूद चीन लगातार ऐसी गतिविधियां कर रहा है, जिससे तनाव बढ़ सकता है। खबर है कि दोनों सेनाओं के कमांडरों के बीच बातचीत के सिर्फ दो दिन बाद सोमवार को ही वास्तविक नियंत्रण रेखा, एलएसी के पास चीन के हेलीकॉप्टर नजर आए। गौरतलब है कि दोनों देशों के सैन्य कमांडरों की छह जून को मुलाकात हुई थी। सैन्य कमांडरों ने पूर्वी लद्दाख के तीन सेक्टरों में जारी तनाव को कम करने के लिए बातचीत की थी।

न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि पिछले सात-आठ दिन में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी, पीएलए के हवाई बेड़े की गतिविधियां ज्यादा बढ़ गई हैं और उसके हेलीकॉप्टर लगातार नजर आ रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि हो सकता है कि सीमा के करीब कई इलाकों में तैनात चीन के सैनिकों को मदद पहुंचाने के लिए ये हेलीकॉप्टर उड़ान भर रहे हों। यह भी बताया गया है कि चीन के हेलीकॉप्टर कई बार भारतीय इलाकों में भी नजर आए। सूत्रों ने बताया कि चीन लगातार अंतरराष्ट्रीय उड़ान नियमों का उल्लंघन कर रहा है और वह भारतीय इलाकों में हेलीकॉप्टर के जरिए निगरानी रख रहा है। मई के शुरुआती दिनों में भी चीन के हेलीकॉप्टरों की ऐसी गतिविधियों के बाद भारतीय वायु सेना ने अपने फाइटर जेट्स भेजे थे। तब चीन के विमान एलएसी के काफी करीब उड़ान भर रहे थे। उस समय दोनों देशों की सेनाओं के जवान सीमा पर आमने-सामने आ गए थे।

इस बीच चीन का सरकारी मीडिया भी लगातार भारत पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है। ग्लोबल टाइम्स ने रविवार को चीन के सैनिकों के युद्धाभ्यास का वीडियो शेयर किया। इसके जरिए चीन का मीडिया यह दिखाने की कोशिश कर रहा है कि सीमा पर चीन किसी भी समय अपने सैनिक और हथियार इकट्ठा कर सकता है। भारत के सामरिक विशेषज्ञों का कहना है कि यह चीन की पुरानी आदत है। वक्त आ गया है कि भारत भी उसके दिमाग से खेले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares