चीनी घुसपैठ पर कांग्रेस के सवाल

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लद्दाख यात्रा के एक दिन बाद कांग्रेस पार्टी ने लद्दाख के कई सेक्टरों में चीन की घुसपैठ को लेकर सवाल पूछे हैं। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री की यात्रा के तामझाम को लेकर भी सवाल उठाए हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने चीन की सेना के भारतीय सीमा में घुसे होने की कुछ तस्वीरों का हवाला देते हुए शनिवार को कहा- तस्वीरें झूठ नहीं बोलतीं।

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा- प्रधानमंत्री देश को जवाब देंगे,  क्या वास्तविक व ताजा चित्र पैंगोंग त्सो लेक एरिया में ‘फिंगर 4 रिज़’ तक हमारी सरजमीं पर चीनी कब्जे की सच्चाई बयां नहीं करते? क्या यह भारत का ही भूभाग है, जिस पर चीनियों द्वारा अतिक्रमण कर रडार, हेलीपैड और दूसरी संरचनाएं खड़ी कर दी गई हैं?

सिब्बल ने आगे पूछा- क्या चीनियों ने गलवान घाटी समेत ‘पेट्रोल प्वाइंट-14’, जहां 16 बिहार रेजिमेंट के 20 जवानों ने सर्वोच्च बलिदान दिया, पर कब्जा कर लिया है? क्या चीनियों ने भारतीय सीमा के अंदर ‘हॉट स्प्रिंग्स’ इलाके को भी कब्जे में ले लिया है? क्या चीन ने ‘देपसांग प्लेंस’ में ‘वाई-जंक्शन’ (एलएसी के 18 किलोमीटर अंदर) तक हमारी जमीन पर कब्जा कर भारत की सामरिक महत्व की ‘डीबीओ हवाई अड्डे’ को खतरा उत्पन्न कर दिया है, जो ‘सियाचिन ग्लेशियर’ व ‘काराकोरम पास’ में हमारी सैन्य आपूर्ति की लाइफलाइन है?

उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा के तामझाम पर कहा- क्या भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और इंदिरा गांधी हमारे सैनिकों का मनोबल बढ़ाने के लिए फॉरवर्ड लोकेशंस में नहीं गए थे? क्या पंडित जवाहर लाल नेहरु 1962 में एनईएफए में फॉरवर्ड लोकेशंस में हमारे सैनिकों का मनोबल बढ़ाने नहीं गए थे? लेकिन ऐसा लगता है कि हमारे मौजूदा प्रधानमंत्री 230 किलोमीटर दूर ‘नीमू, लेह’ में ही रुके रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares