nayaindia कश्मीर में तीसरे पक्ष का रोल नहीं - Naya India
kishori-yojna
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

कश्मीर में तीसरे पक्ष का रोल नहीं

नई दिल्ली। स्विट्जरलैंड के दावोस में चल रही विश्व आर्थिक मंच, डब्लुईएफ की बैठक में कश्मीर मसले को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मांग को खारिज करते हुए भारत ने दो टूक अंदाज में कहा है कि कश्मीर में किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है। भारत ने इसके साथ ही यह भी कहा है कि इमरान खान का बयान पाकिस्तान की हताशा को दिखाता है। भारत ने पाकिस्तान में आतंकवाद कम होने के बारे में कहा कि इसका फैसला अंतरराष्ट्रीय संस्था फाइनेंशिएल एक्शन टास्क फोर्स, एफएटीएफ को करना है।

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का जवाब देते हुए यह भी कहा कि अगर पाकिस्तान वास्तव में भारत के साथ सामान्य संबंधों के प्रति गंभीर है तो उपयुक्त माहौल बनाने की जिम्मेदारी उसकी है।विदेश मंत्रालय ने कहा- पाकिस्तान को यह समझने की जरुरत है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के संबंध में विश्व समुदाय उसके दोहरे मानदंड को समझ गया है। पाकिस्तान को अपनी धरती से काम करने वाले आतंकी समूहों पर विश्वसनीय, ठोस और पुष्टि किए जाने योग्य कार्रवाई करने की जरूरत है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को संवाददाताओं से कहा-कश्मीर मामले पर हमारा रुख स्पष्ट और स्थिर है। कश्मीर मामले पर किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है।अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान के बारे में जवाब देते हुए कहा कि कश्मीर पर हमारा रुख स्पष्ट और स्थिर है, इसमें किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है। और अगर कोई दोपक्षीय मामला आता है तब दोनों देशों को दोपक्षीय ढंग से सुलझाया जाना चाहिए जो शिमला समझौता और लाहौर घोषणापत्र की तहत हो।

रवीश कुमार ने कहा-वार्ता के लिए उपयुक्त माहौल तैयार करना पाकिस्तान का दायित्व है जो आतंकवाद, शत्रुता और हिंसा से मुक्त होतभी दोनों देशों के बीच कोई अर्थपूर्ण बातचीत हो सकती है।गौरतलब है कि दावोस में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि वाशिंगटन कश्मीर के मुद्दे को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच घटनाक्रम पर करीबी नजर रख रहा है और दोनों पड़ोसी देशों के बीच विवाद को सुलझाने में मदद कर सकता है।

दावोस में भारत और पाकिस्तान संबंधों के लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान के बारे में एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा- उनकी टिप्पणियों में कोई नई बात नहीं है। वे विरोधाभाषी तो हैं ही, तथ्यों की दृष्टि से गलत भी हैं। यह बयान दिखाता है कि वे हताश हो गए हैं। रवीश कुमार ने इमरान खान के लिए कहा कि वे निराशा से हताशा की ओर हैं।उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को यह समझने की जरूरत है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के संबंध में विश्व समुदाय उसके दोहरे मानदंड को समझ गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 9 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Board Exam Alert! 16 फरवरी से शुरू हैं यूपी बोर्ड की परीक्षाएं, एक बार समझ लें गाइडलाइंस
Board Exam Alert! 16 फरवरी से शुरू हैं यूपी बोर्ड की परीक्षाएं, एक बार समझ लें गाइडलाइंस