समाचार मुख्य

हिंसा के लिए चीन जिम्मेदार

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के गालवान घाटी में सोमवार रात को हुई हिंसा के लिए भारत ने चीन को जिम्मेदार ठहराया है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से बात की और दो टूक अंदाज में कहा कि हिंसक झड़प के लिए चीन जिम्मेदार है। जयशंकर ने कहा कि सीमा पर जो कुछ भी हुआ है, उसके लिए चीन जिम्मेदार है और यह कदम उसने सोच-समझकर उठाया था। गौरतलब है कि गालवान घाटी में सोमवार रात भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए, जिसमें एक कर्नल रैंक के अधिकारी शामिल हैं। सूत्रों के हवाले से खबर है कि चीन के भी अनेक जवान मारे गए हैं। मारे गए चीनी जवानों में एक सैन्य अधिकारी भी था, जो भारतीय जवानों के साथ हिंसक झड़प करने वाली यूनिट का नेतृत्व कर रहा था। ध्यान रहे इसी गालवान घाटी में 1962 की लड़ाई में 33 भारतीयों की जान गई थी।

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक दोनों पक्ष जल्दी से जल्दी सीमा पर तनाव खत्म करना चाहते हैं। दोनों पक्ष चाहते हैं कि मसले का हल न्यायसंगत तरीके से निकाला जाए। इसके मुताबिक चीन के विदेश मंत्री ने भारत से अपील की है कि विवाद के लिए जिम्मेदार लोगों को सजा दी जाए और फ्रंट लाइन पर तैनात जवानों को भारत नियंत्रण में रखे।विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि सीमा पर हुई इस घटना का द्वोपक्षीय संबंधों पर गहरा असर पड़ेगा। उन्होंने चीन के विदेश मंत्री से कहा कि वक्त की मांग यहीं है कि चीन अपने इस कदम का फिर से मूल्यांकन करे और कदम उठाए। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों को उच्च स्तर  पर बनी सहमति को समझना चाहिए और उसे गंभीरता से लागू करना चाहिए। द्वोपक्षीय समझौतों का दोनों ही पक्ष पालन करें। तय की गई लाइन ऑफ कंट्रोल का सम्मान करें और इसे बदलने के लिए कोई एकतरफा कार्रवाई न करें। इस बीच खबर है कि भारत, रूस और चीन के बीच 23 जून को विदेश मंत्री स्तर की त्रिपक्षीय बातचीत स्थगित कर दी गई है। चीन और भारत के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प की वजह से इसे स्थगित करने की अटकलें हैं।

Latest News

राजनीति में उफान, लाचार मोदी!
गपशप | NI Desk - June 19,2021
वक्त बदल रहा है। बंगाल में भाजपाई तृणमूल कांग्रेस में जाते हुए हैं तो त्रिपुरा की भाजपा सरकार पर खतरे के बादल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *