जेईई, नीट परीक्षा पर सस्पेंस जारी - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

जेईई, नीट परीक्षा पर सस्पेंस जारी

नई दिल्ली। इंजीनियरिंग और मेडिकल में दाखिले के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षा पर सस्पेंस जारी है। इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए होने वाली जेईई मेन्स की परीक्षा एक से छह सितंबर के बीच होनी है और मेडिकल में दाखिले के लिए नीट की परीक्षा 13 सितंबर को होनी है। परीक्षा का आयोजन करने वाली नेशनल टेस्टिंग एजेंसी, एनटीए ने परीक्षा का शिड्यूल जारी कर दिया है पर इस परीक्षा का बड़े पैमाने पर विरोध होने लगा है। एक बड़ा समूह विरोध कर रहा है तो कुछ लोग परीक्षा कराए जाने का समर्थन भी कर रहे हैं। कई अकादमिक जानकारों ने इसका समर्थन करते हुए कहा है कि अगर परीक्षा अभी नहीं हुई तो यह जीरो वर्ष हो जाएगा, जिसका नुकसान लाखों छात्रों को होगा।

बहरहाल, इन परीक्षाओं के विरोध में बुधवार को सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने एकजुट होने का संदेश दिया तो गुरुवार को सोशल मीडिया में नीट, जेईई की परीक्षा रूकवाने का ट्विट ट्रेंड करता रहा। छात्रों और अभिभावकों ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को भी निशाना बनाया। गौरतलब है कि निशंक ने बुधवार को एक इंटरव्यू में कहा था कि छात्रों का बहुमत चाहता है कि परीक्षा हो। इस पर सोशल मीडिया में छात्रों ने उनको चुनौती देते हुए कहा कि एनटीए की साइट पर वोटिंग करा ली जाए, उससे पता चल जाएगा कि कितने छात्र परीक्षा के पक्ष में हैं।

असल में कोरोना संक्रमण की महामारी के चलते छात्र और अभिभावक इसका विरोध कर रहे हैं। गुरुवार को दोपहर तक सवा लाख से ज्यादा लोगों ने परीक्षा रद्द कराने के लिए ट्विट किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को छात्र विरोधी बताते हुए भी छह लाख लोगों ने ट्विट किया था। सबसे ज्यादा इस बात का विरोध हो रहा था कि केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कैसे कहा कि स्टूडेंट्स की साइलेंट मैजोरिटी चाहती है कि परीक्षा हो। उन्होंने कहा कि बहुत से छात्र किसी कीमत पर इस साल को जीरो ईयर बनाए जाने के पक्ष में नहीं हैं।

दूसरी ओर शिक्षा जगत के अनेक लोग इसके समर्थन में भी उतरे हैं। देश-विदेश के विश्वविद्यालयों से जुड़े डेढ़ सौ शिक्षकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। उन्होंने कहा है कि इन परीक्षाओं में और देरी हुई तो यह छात्रों के करियर से समझौता होगा। कुछ लोग अपने राजनीतिक एजेंडे के चक्कर में छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। चिट्ठी में लिखा गया है- युवा और छात्र देश का भविष्य हैं, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से उनका करियर मुश्किल में आ गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Maharashtra : प्रेग्नेंट महिला रेंजर पर टूट पड़ा पूर्व सरपंच, हैवानियत की हदें कर दी पार, Video Viral
Maharashtra : प्रेग्नेंट महिला रेंजर पर टूट पड़ा पूर्व सरपंच, हैवानियत की हदें कर दी पार, Video Viral