गुंडे छूटे हुए पर पीड़ितों पर मुकदमे दर्ज!

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, जेएनयू कैंपस में घुस कर छात्रों और शिक्षकों से मारपीट करने और तोड़फोड़ करने वाले नकाबपोश गुंडों को पुलिस तीन दिन बाद तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है पर उनके हमले में बुरी तरह घायल हुए लोगों के ऊपर मुकदमे जरूर दर्ज हो गए हैं। यूनिवर्सिटी प्रशासन के कहने पर पुलिस ने जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित करीब 20 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

गौरतलब है कि पांच जनवरी की शाम छह बजे 50 के करीब नकाबपोश गुंडे जेएनयू कैंपस में लाठी, डंडों और हॉकी स्टिक्स लेकर घुसे थे और छात्रों व शिक्षकों से मारपीट की थी। गुंडों ने कैंपस में तीन घंटे तक आतंक का तांडव किया और उन्हें रोकने न तो पुलिस आई और न जेएनयू की सिक्योरिटी का कोई आदमी पहुंचा। इस हमले में आइशी घोष बुरी तरह से घायल हुई हैं। पर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने उनके ऊपर ही मुकदमा दर्ज करा दिया है।

बताया जा रहा है कि जेएनयू के सर्वर रूम में तोड़फोड़ की घटना के मामले में दिल्ली पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने मंगलवार को बताया कि ये एमआईआर जेएनयू प्रशासन की शिकायत पर पांच जनवरी को दर्ज की गई। जेएनयू प्रशासन ने तोड़फोड़ के सिलसिले में छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष सहित अन्य पदाधिकारियों के नाम दिए थे लेकिन पुलिस ने घोष या अन्य छात्रों के नाम एफआईआर में आरोपी के रूप में दर्ज नहीं किए हैं।

पुलिस ने बताया कि सर्वर बंद करने की शिकायत तीन जनवरी को और सर्वर रूप में तोड़फोड़ की शिकायत चार जनवरी को दर्ज करवाई गई थी। जेएनयू छात्र संघ के उपाध्यक्ष साकेत मून ने आरोप लगाया कि प्रशासन कुछ छात्रों को चुन-चुनकर निशाना बना रहा है। मून ने सर्वर रूप में तोड़फोड़ की घटना में शामिल होने से इनकार किया। जेएनयू में रविवार को हुई हिंसा के मामले में दूसरी एफआईआर छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष सहित 20 छात्रों पर दर्ज की गई थी। इन पर प्रशासनिक भवन के स्टाफ और महिला गार्ड से मारपीट, गाली गलौज के अलावा तोड़फोड़ का केस दर्ज किया गया। एफआईआर जेएनयू सिक्योरिटी डिपार्टमेंट ने दर्ज करवाई।

जेएनयू सिक्योरिटी डिपार्टमेंट ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है- कम्युनिकेशन एंड सर्विस ऑफिस तीन जनवरी को पूरी तरह बंद रहा। इसके चलते पूरी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया बंद थी। इसके चलते ऑफिस के स्टाफ ने जेएनयू के गार्ड्स के साथ मिल कर चार जनवरी को सुबह छह बजे दफ्तर खोलने की कोशिश की। इस दौरान छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष सहित अन्य लोगों ने स्टाफ के साथ मारपीट की। महिला गार्ड से भी मारपीट की और उन्हें धमकाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares