गुंडों को पकड़ने में नाकाम पुलिस

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, जेएनयू में घुस कर छात्रों और शिक्षकों के साथ मारपीट करने वाले नकाबपोश गुंडों को पकड़ने में दिल्ली पुलिस नाकाम रही है। चार दिन बीतने के बाद भी पुलिस यह दावा ही करती रही कि वह नकाबपोश गुंडों की पहचान कर रही है। सूत्रों के हवाले से पुलिस ने कहा कि कुछ नकाबपोशों की पहचान हो गई है और जल्‍दी ही पुलिस इस मामले में खुलासा करने वाली है। हालांकि कोई नया केस इस मामले में दर्ज नहीं किया गया है और न अब तक कोई गिरफ्तारी हुई है।

नकाबपोश गुंडों के हमले में घायल हुई जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने पुलिस में शिकायत की है। उन्होंने कहा है कि उनको जान से मारने की कोशिश की गई। आइशी ने पुलिस को विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि उनके बेहोश हो जाने तक गुंडे उनको मारते रहे थे। आइशी ने यह भी कहा कि वे एक नकाबपोश गुंडे को पहचानती हैं। गौरतलब है कि रविवार को 50 के करीब गुंडे जेएनयू कैंपस में घुसे थे और छात्रों व शिक्षकों से मारपीट की थी। उन्होंने कैंपस में तोड़फोड़ भी की थी।

इस बीच छात्रों के प्रति समर्थन जताने के लिए मंगलवार को मशहूर अभिनेत्री दीपिका पदुकोण भी जेएनयू कैंपस में गई थीं। उनके जेएनयू में जाने को लेकर बुधवार को दिन भर सोशल मीडिया में बहस चलती रही। भाजपा से जुड़े कई समूहों ने उनकी आने वाली फिल्म के बायकॉट का ऐलान किया तो दूसरी ओर कांग्रेस और फिल्म बिरादरी ने उनका समर्थन किया। हालांकि बाद में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने भी उनका समर्थन किया।

बहरहाल, बुधवार को जानकार सूत्रों के हवाले से बताया गया कि पुलिस के पास जरूरी लीड है, जिसके जरिए नकाबपोशों की पहचान की जा रही है। जानकारी के अनुसार कुछ नकाबपोश जो वीडियो में सरकारी संपत्‍ति का नुकसान करने नजर आए थे उनकी पहचान कर ली गई है। अब इस मामले में पुलिस खुलासा कर उन पर शिकंजा कसेगी। इस बीच केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा है कि भाजपा कार्यकर्ताओं को पहले ही क्लीन चिट देते हए कहा कि भाजपा का कोई भी कार्यकर्ता या नेता हिंसा नहीं भड़का सकता है। उन्होंने कहा कि हमले के पीछे कांग्रेस और आप का हाथ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares