निजी अस्पतालों से नाराज केजरीवाल

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के निजी अस्पतालों से नाराजगी जताई है। एक निजी न्यूज चैनल का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने दिल्ली के निजी अस्पतालों को फटकार लगाई और उनको चेतवानी देते हुए कहा कि वे गलत हरकत कर रहे हैं और सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी। गौरतलब है कि दिल्ली में सरकारी और निजी दोनों अस्पतालों को लेकर ढेरों शिकायतें आई हैं, जिनमें कहा गया है कि ये अस्पताल मरीजों को भरती नहीं कर रहे हैं या बहुत ज्यादा पैसे मांग रहे हैं।

केजरीवाल ने कहा- अस्पताल पहले शिकायत करते थे कि बेड नहीं लेकिन ज्यादा कहने पर 20 से 50 हजार की मांग करते थे। ऐसी ही शिकायतों के समाधान के लिए दिल्ली सरकार ने ऐप लांच किया। मुख्यमंत्री ने कहा- हमने ऐप में सारी जानकारी डाल दी कि कहां बेड खाली हैं और कहां नहीं लेकिन लोग ऐसे टूट पड़े जैसे कि हमने यह जानकारी देकर गड़बड़ी कर दी।

एक निजी न्यूज चैनल का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि एक न्यूज एंकर लाइव कार्यक्रम में प्राइवेट अस्पताल को फोन करता है, अस्पताल उससे दाखिले के एवज में पैसों की मांग करता है। केजरीवाल ने कहा कि कुछ लोगों ने माफिया गिरोह बनाया हुआ था उसको तोड़ने में थोड़ा समय लग रहा है। उन्होंने कहा- कुछ चंद अस्पताल इतने ताकतवर हो गए हैं कि उनकी सभी पार्टियों में पहुंच है। वे कह रहे हैं कि हम मरीज नहीं लेंगे तो मैं कह रहा हूं कि मरीज तो लेने पड़ेंगे आपको।

मुख्यमंत्री ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा- आपको सस्ती दर पर जमीन इसलिए दी गई थी ताकि आप जनता की सेवा करें। उन्होंने निजी अस्पतालों से सख्त लहजे में कहा कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा, इस गुमान में मत रहना कि दूसरी पार्टी में बैठा कोई नेता आपका आका आपको बचा लेगा। उन्होंने शनिवार को कहा- कल से हम एक-एक अस्पताल के मालिक को बुला रहे हैं सब से पूछा जा रहा है। अस्पतालों को कहा गया है कि 20 फीसदी बेड रिजर्व करो। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का इलाज कर रहे अस्पतालों के मामले में सरकार किसी भी शिकायत की अनदेखी नहीं होने देगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares