nayaindia खड़गे ने प्रधानमंत्री को दिए सुझाव - Naya India
kishori-yojna
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

खड़गे ने प्रधानमंत्री को दिए सुझाव

ED interrogates Kharge

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। अपनी पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की तर्ज पर खड़गे ने भी प्रधानमंत्री मोदी को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ सुझाव दिए हैं।

खड़गे ने रविवार को लिखे पत्र में कहा कि सरकार को वैक्सीन और चिकित्सा उपकरणों पर टैक्स में छूट देनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि वैक्सीनेशन के लिए आवंटित किए गए 35 हजार करोड़ रुपए को खर्च किया जाए और ये सुनिश्चित करना चाहिए की देश के हर व्यक्ति का वैक्सीनेशन हो सके।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री को यह भी सुझाव दिया कि विदेशों से आ रही राहत सामग्री को बंटवाने के लिए प्रवासी मजदूरों की मदद ली जानी चाहिए। उन्होंने यह काम मनरेगा के तहत करवाने का सुझाव दिया। गौरतलब है कि हाल ही के दिनों में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के बाद प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने वाले खड़गे तीसरे कांग्रेस नेता हैं।

उन्होंने वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को अनिवार्य रूप से लाइसेंस देने की वकालत की। उन्होंने चिकित्सा उपकरणों पर टैक्स में छूट देने की भी अपील की है। अभी वैक्सीन पर पांच फीसदी जीएसटी लिया जा रहा है। इसके अलावा पीपीआई किट्स, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और एंबुलेंस पर 12 से 28 फीसदी टैक्स है। खड़गे ने इनमें छूट देने की मांग की। उन्होंने गरीबों की आर्थिक मदद के लिए प्रवासी मजदूरों को मनरेगा के तहत एक सौ की जगह दो सौ दिन का रोजगार देने की मांग की।

सोनिया गांधी की तरह खड़गे ने भी केंद्र सरकार को तुरंत सभी पार्टियों की मीटिंग बुलाने को कहा ताकि महामारी से लड़ने के लिए सबकी सहमति से एक ब्लूप्रिंट तैयार हो सके। खड़गे ने लिखा है कि ये सब की सहमति को ध्यान में रखते हुए सामूहिक निर्णय लेने का समय है। सिटीजन ग्रुप और सिविल सोसायटी के लोग कोरोना से लंबी लड़ाई लड़ रहे हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि केंद्र सरकार अपने कर्तव्यों का पालन करती नहीं दिख रही है। उन्होंने लिखा- आम भारतीय आज इस स्थिति में पहुंच चुका है कि उसे अपनों का इलाज करने के लिए जमीन, गहनें बेचने पड़ रहे हैं। लोगों को अपनी जमापूंजी खर्च करनी पड़ रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − fourteen =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
एमएसएमई के लिए 9,000 करोड़ का प्रस्ताव
एमएसएमई के लिए 9,000 करोड़ का प्रस्ताव