• डाउनलोड ऐप
Wednesday, May 12, 2021
No menu items!
spot_img

महाराष्ट्र में लॉकडाउन पर विचार

Must Read

मुंबई। कोरोना वायरस से पूरे देश में सर्वाधिक संक्रमित महाराष्ट्र में एक बार फिर पूरी तरह से लॉकडाउन लगाने पर विचार किया गया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस पर विचार के लिए सभी पार्टियों की एक वर्चुअल बैठक की है, जिसमें उन्होंने बहुत साफ शब्दों में कहा कि लॉकडाउन लगाने के अलावा कोई और रास्ता नहीं है। अगले दो दिन में सरकार इस पर फैसला करेगी। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में हर दिन 60 हजार के करीब नए केसेज आ रहे हैं। इसे देखते हुए राज्य में शनिवार से ही सप्ताहांत का कर्फ्यू शुरू हुआ और कई जगह रात का कर्फ्यू भी लगाया गया था, लेकिन उससे कोई खास फायदा नहीं हुआ है।

तभी पूरी तरह से लॉकडाउन लगाने के मसले पर आम राय बनाने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के अलावा नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़नवीस, प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटिल, भाजपा नेता प्रवीण दरेकर, महाराष्ट्र सरकार के मंत्री अशोक चव्हाण, बाला साहेब थोराट, गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल, कांग्रेस नेता विजय वडेटीवार, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे भी मौजूद थे।

वर्चुअल बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि यह लॉकडाउन का समय है। कोई अन्य विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा- मैं जानता हूं कि लॉकडाउन एकमात्र तरीका नहीं है, लेकिन दुनिया ने इसे स्वीकार कर लिया है। हमने लोगों को रोकने का प्रयास किया, ऑफिस के समय में भी बदलाव किया। लोगों को घर से भी काम करवाया, लेकिन संक्रमण के मामले नहीं कम हुए। वैक्सीन की दूसरी डोज लेकर भी लोग कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा- मैंने इस संबंध में प्रधानमंत्री मोदी के सामने मुद्दा उठाया था। कोरोना की चेन तोड़ने की जरूरत है, युवा पीढ़ी ज्यादा प्रभावित हो रही है। हालांकि भाजपा ने पूरी तरह से लॉकडाउन लगाने का विरोध किया। पूर्ण लॉकडाउन का विरोध करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कह- राज्य में टेस्टिंग की संख्या बढ़ाई जाए। टेस्टिंग की रिपोर्ट तुरंत प्राप्त करने के लिए उपाय किए जाने चाहिए।

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन बढ़ा

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ ने लॉकडाउन बढ़ा दिया है। मध्य प्रदेश के 12 शहरों में लॉकडाउन बढ़ाया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जिलों के क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ बैठक की, जिसके बाद यह फैसला किया गया। उधर छत्तीसगढ़ में एक दिन में करीब 12 हजार नए केसेज आने के बाद लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया। अब राज्य के 28 जिलों में से 11 में लॉकडाउन लगा दिया गया है।

मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस को रोकने के लिए बड़वानी, राजगढ़, विदिशा जिलों के शहरी और ग्रामीण इलाकों में 19 अप्रैल सुबह छह बजे तक लॉकडाउन लागू रहेगा। इसी तरह इंदौर, राऊ, महू, शाजापुर और उज्जैन जिले के सभी शहरों में भी 19 अप्रैल की सुबह छह बजे बजे लॉकडाउन रहेगा। उधर जबलपुर शहर के साथ बालाघाट, नरसिंह पुर और सिवनी जिलों में 12 अप्रैल की रात से 22 अप्रैल की सुबह छह बजे तक लॉकडाउन लगाया गया है। इससे पहले छिंदवाड़ा में आठ अप्रैल से और रतलाम में नौ अप्रैल की शाम से ही लॉकडाउन लागू है। इसके अलावा खरगोन, कटनी और बैतूल में भी 17 अप्रैल की सुबह छह बजे तक सब कुछ बंद रहेगा।

छत्तीसगढ़ के कुल 28 में से 11 जिलों में लॉकडाउन लागू कर दिया गया है। रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, बालोद, बेमेतरा, जशपुर, कोरिया, बालौदा बाजार, कोरबा के बाद अब धमतरी और रायगढ़ में भी लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। धमतरी में रविवार को रात 12 बजे बजे से 26 अप्रैल की रात 12 बजे तक सब कुछ बंद रहेगा। रायगढ़ में 14 अप्रैल सुबह छह बजे से 22 अप्रैल की रात 12 बजे तक लॉकडाउन रहेगा। दुर्ग में छह अप्रैल से बंद चल रहा है। शनिवार की शाम छह बजे से प्रदेश के तीन और जिलों राजनांदगांव, बालोद और बेमेतरा में भी लॉकडाउन शुरू हो गया। जशपुर, कोरिया और बलौदा बाजार में रविवार 11 अप्रैल से 18 अप्रैल तक का लॉकडाउन रहेगा। रायपुर में शुक्रवार शाम छह बजे के बाद लॉकडाउन लगा दिया गया।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

कांग्रेस के प्रति शिव सेना का सद्भाव

भारत की राजनीति में अक्सर दिलचस्प चीजें देखने को मिलती रहती हैं। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार में...

More Articles Like This