जीवन में आगे बढ़ने के अनेक अवसर: मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज देश भर के दसवीं और बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को अकादमिक और सामाजिक क्षेत्र में संतुलन स्थापित करने की सलाह देते हुए कहा कि केवल परीक्षा में अच्छे अंकों को लाना ही जीवन का पैमाना नहीं माना जाना चाहिए।

मोदी ने यहां तालकटोरा स्टेडियम में छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा 2020’ के तीसरे संस्करण के दौरान विद्यार्थियों के सवालों के जवाब में यह बात कही कि सिर्फ अच्छे अंकों को जीवन में सफलता का पैमाना नहीं मानना चाहिए और जीवन में आगे बढ़ने के अनेक अवसर हैं।

उन्होंने कहा, कोई भी परीक्षा जिंदगी नहीं होती है और यह मात्र एक पड़ाव है, यही सब कुछ नहीं है, अगर किसी बच्चे के अच्छे अंक नहीं आए तो यह मत समझिए कि दुनिया ही लुट गई है। आप जीवन के हर क्षेत्र में जा सकते हैं। अब दुनिया पूरी तरह बदल गई है और हर क्षेत्र में प्रयास किए जा सकते हैं।

मोदी ने बच्चों को जीवन में हार नहीं मानने को मंत्र देते हुए कहा कि हमें कभी निराश नहीं होना चाहिए क्योंकि हमारे मन में जो भी नकारात्मक बाते आती हैं वे अधिकतर बाहरी कारकों से जुड़ी होती हैं। बाहरी परिस्थिति ही बच्चों का मूड बिगाड़ने का सबसे बड़ा कारक है क्योंकि जब हम किसी के साथ अपनी अपेक्षाओं को अधिक जोड़ लेते हैं और वह पूरी नहीं होती है तो ‘मूड’ स्वाभाविक रूप से बिगड़ेगा ही लेकिन इस परिस्थिति से बाहर निकल कर इस पर विजय पाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares