लॉकडाउन के बाद की रणनीति को लेकर मोदी की मंत्रियों से मुलाकात

नई दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरे चरण के लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने से पहले ही आगे की रणनीति बनाने में जुट गए हैं। इस सिलसिले में प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सहित कई प्रमुख मंत्रियों के साथ बैठक की। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन (बंद) 2.0 तीन मई को पूरा हो रहा है।

हालांकि, आधिकारिक रूप से इन बैठकों के बारे में कुछ नहीं कहा गया है। सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री पिछले कुछ दिन से बंद के बाद की रणनीतिक के लिए लगातार बैठकें कर रहे हैं।

शुक्रवार सुबह हुई इस बैठक में रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे। इससे पहले मोदी ने बृहस्पतिवार को विदेशी निवेश आकर्षित करने, स्थानीय विनिर्माण को प्रोत्साहन देने तथा अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने के उपायों पर विचार-विमर्श को कई बैठकें की थी। कोविड-19 पर काबू पाने के लिए देश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू है। बंद की वजह से आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई हैं।

मोदी ने निवेश की स्थिति, रक्षा और वैमानिकी, खान और खनिज क्षेत्रों की समीक्षा की है। सरकार ने पहले 25 मार्च से 21 दिन का बंद घोषित किया था। बाद में इसे बढ़ाकर तीन मई तक कर दिया गया। बंद की वजह से कारोबार तो ठप हुआ ही है, हवाई और रेल यात्रा बंद है, साथ ही लोगों और माल की आवाजाही भी प्रभावित हुई है।

कुछ विश्लेषकों का कहना है कि आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप होने से अप्रैल-जून में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट आएगी। मार्च के आखिर में सरकार ने 1.7 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की थी। इसके तहत गरीबों को मुफ्त अनाज और रसोई गैस सिलेंडर तथ गरीब महिलाओं और बुजुर्गों को नकद सहायता उपलब्ध कराई गई। सरकार एक दूसरे पैकज पर काम कर रही है। यह पैकेज मुख्य रूप से बंद से बुरी तरह प्रभावित लघु और मझोले उपक्रमों के लिए होगा। बताया जाता है कि इस पैकेज की घोषणा जल्द हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares