मोदी ने यूएन में सुधार की जरूरत बताई

संयुक्त राष्ट्र। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ में सुधारों की जरूरत बताई है। उन्होंने कहा कि व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर भरोसे की कमी का संकट मंडरा रहा है। उन्होंने बहुपक्षीय व्यवस्था में सुधार की जरूरतों पर जोर दिया जो मौजूदा वास्तविकताओं को दिखाए, सभी पक्षकारों की बात रखे, समकालीन चुनौतियों का समाधान दे और मानव कल्याण पर केंद्रित हो।  संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर बुलाई गई महासभा की उच्च स्तरीय बैठक में सोमवार को अपने वीडियो संदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह कहा।

मोदी ने कहा- हम पुराने हो चुके स्वरूप के साथ आज की चुनौतियों का सामना नहीं कर सकते। व्यापक सुधारों के अभाव में संयुक्त राष्ट्र पर भरोसे की कमी का संकट मंडरा रहा है। मोदी ने कहा- आज परस्पर जुड़े हुए विश्व में, बहुपक्षीय व्यवस्था में सुधार की जरूरत है, जो मौजूदा वास्तविकताओं को दर्शाए, सभी पक्षकारों की बात रखे, समकालीन चुनौतियों का समाधान दे और मानव कल्याण पर ध्यान दे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत इस दिशा में अन्य देशों के साथ मिलकर काम करने का इच्छुक है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने संयुक्त राष्ट्र महासभा हॉल में प्रधानमंत्री मोदी के पहले से रिकॉर्ड भाषण की प्रस्तावना दी। प्रधानमंत्री मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा के सालाना सम्मेलन को 26 सितंबर को संबोधित करने वाले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares